मैंने नहीं करवाई शहला की हत्या : जाहिदा


इंदौर। शहला हत्याकाड में सीबीआइ ने जाहिदा परवेज को मुख्य आरोपी बनाया है, लेकिन जाहिदा ने कोर्ट के समक्ष धारा-164 के तहत दिए बयान में साफ कहा- न मैंने कोई खून किया है और न ही खून की साजिश रची है। न मैं यह जानती हूं कि शाकिब डेंजर की असलियत क्या है? उसने इस मर्डर को किस तरह से एक्जिक्यूट किया, कौन-सी गाड़ी इस्तेमाल की और किन लोगों के जरिए मर्डर करवाया। उसने अपने बयान में यह स्वीकार किया कि ध्रुव नारायण सिंह से उसके गहरे ताल्लुकात थे। उसने कहा- चूंकि मैं उनसे प्रेम करती थी, इसलिए मुझे उनकी हर बात का भरोसा था। शहला मसूद मामले में जिला जेल में बंद जाहिदा परवेज और उसकी सहेली सबा भोपाल जेल में ट्रासफर चाहती है। जाहिदा को उसकी बेटियों की याद भी सताती है। दोनों के वकील की तरफ से अभी कोर्ट के समक्ष फिलहाल आवेदन नहीं दिया गया है। तीन माह से जिला जेल में बंद जाहिदा और सबा को अलग-अलग बैरक में रखा गया है। सिर्फ कुछ देर के लिए ही दोनों मिल पाती हैं। जेल में दोनों किताबें पढ़कर समय काट रही हैं। दोनों की तरफ से पहले ही भोपाल जेल में जाने की मंशा जताई जा चुकी है लेकिन चालान पेश होने तक ऐसा नहीं हो सकता था। उनके वकील का कहना है कि जेल स्थानानतरण जाहिदा चाहती है, लेकिन इस संबंध में उनके मुवक्किल असद से अभी कोई चर्चा नहीं हो पाई है।

Be Sociable, Share!

Short URL: http://www.dakshinbharat.com/?p=5027

Posted by on May 28 2012. Filed under दक्षिणांचल. You can follow any responses to this entry through the RSS 2.0. You can leave a response or trackback to this entry

You must be logged in to post a comment Login

Powered by Givontech