मुंबई जैसे हमलों से बचाव के लिए अमेरिका सतर्क

वाशिंगटन। वर्ष 2008 में हुए मुंबई हमलों से सबक लेते हुए अमेरिका की कई सुरक्षा और खुफिया एजेंसियों ने देश के छह बड़े शहरों में ऐसे आतंकी हमलों से निपटने के लिए कई कार्यशालाएं आयोजित की हैं।
अमेरिका के घरेलू सुरक्षा विभाग ने कहा है कि खतरे के वर्तमान माहौल को देखते हुए मुंबई में हुए आतंकवादी हमलों जैसे हमलों से निपटने के लिए घरेलू सुरक्षा विभाग के खुफिया और विश्लेषण कार्यालय ने सहयोगी एफईएमए, नेशनल काउंटर टेररिजम सेंटर और डिपार्टमेंट ऑफ जस्टिस.फेडरल ब्यूरो ऑफ इन्वेस्टिगेशन के साथ मिल कर देश के छह बड़े शहरों में कार्यशालाओं की एक श्रृंखला आयोजित की।
बहरहाल शहरों के नामों का जिक्र नहीं किया गया लेकिन पहले की खबरों में संकेत दिया गया था कि जिन शहरों में ऐसी कार्यशालाएं आयोजित की गईं उनमें न्यूयार्क, लॉस एंजिलिस, शिकागो और वाशिंगटन शामिल थे। डीएचएस के अनुसार, अमेरिका और भारत की सरकारों के बीच समय पर महत्वपूर्ण साइबर सुरक्षा सूचनाओं और दक्षता का आदान प्रदान सुनिश्चित करने के लिए, भारतीय कंप्यूटर आपात प्रतिक्रिया दल और डीएचएस के यूनाइटेड स्टेट्स कंप्यूटर आपात तैयारी दल ने गत वर्ष एक समझौते पर हस्ताक्षर किए हैं। बजटीय प्रस्ताव में डीएचएस ने कहा है कि इस तैयारी के माध्यम से सरकारों और देशों के साइबर सुरक्षा समुदाय बड़े पैमाने पर तकनीकी और साइबर संचालन संबंधी मुद्दों को लेकर अपने समकक्षों के साथ समन्वय कर सकते हैं।

Be Sociable, Share!

Short URL: http://www.dakshinbharat.com/?p=3079

Posted by on Feb 15 2012. Filed under विश्व. You can follow any responses to this entry through the RSS 2.0. You can leave a response or trackback to this entry

You must be logged in to post a comment Login

Powered by Givontech