मौजूदा समय में भागदौ़ड से भरी जिंदगी के चलते लोगों को कई समस्याओं का सामना करना प़डता है। इस भागदौ़ड के चलते तनाव का ब़ढना एक आम समस्या है। तनाव से सिर दर्द की समस्या भी होती है लेकिन इसे नजरअंदाज नहीं करना चाहिए। माइग्रेन उम्र के किसी भी प़डाव में हो सकता है लेकिन, आप कुछ घरेलू और आसान उपाय अपनाकर इस बीमारी के दर्द से राहत पा सकते हैं।अगर आप सिरदर्द या माइग्रेन के शिकार हैं तो हो सकता है कि इसका कारण आपके सोने के गलत पैटर्न हों।८ अच्छी नींद के लिए शांत वातावरण का होना जरूरी है। सोने से पहले लाइट को बंद करें। कमरे को अंधेरा करके और शांत वातावरण में सोना चाहिए।८ टेम्परेचर थेरेपी को अप्लाई करें। गर्म और ठंडा सेक अपने सिर और गर्दन के पास लें। आइस पैक का इस्तेमाल भी कर सकते है, जिससे दर्द में राहत मिल सकती है। हीटिंग पैड्स तनावग्रस्त मांशपेशियों में राहत प्रदान करते हैं।८ कैफीनयुक्त पेय का इस्तेमाल करें। शुरुआती अवस्था में माइग्रेन के दर्द में कैफीन का कम मात्रा का सेवन भी राहत प्रदान करता है।८ माइग्रेन के दर्द के चलते नींद में काफी दिक्कत आती है। सोने के समय का ध्यान रखें। नियत समय पर जागें और नियत समय पर सोने की कोशिश करें। यदि आप दिन के समय लेटते हैं तो इस अवधि को कम रखने की कोशिश करें।८ बेहतर नींद के लिए खुद को रिलैक्स करने की कोशिश करें। सॉफ्ट म्यूजिक को सुनें, मनपसंद किताब को पढें। रात को सोने से पहले अधिक एक्सरसाइज, भारी भोजन, कैफीन, निकोटिन और अल्कोहल का सेवन न करें।८ भटकाव को हावी न होनें दें। बिस्तर पर सोने के दौरान टीवी देखने और दस्तावेजी काम को न करें।८ जबरदस्ती सोने की कोशिश न करें। नीदं आने के लिए कुछ प़ढें और अन्य रुचिकर कार्य करें।८ खानपान की आदतें भी माइग्रेन को प्रभावित करती हैं। भोजन करने के समय का ध्यान रखें।८ भोजन न करना अधिक नुकसानदेह हो सकता है। यदि आप देर तक भोजन नहीं करते हैं तो माइग्रेन का रिस्क ब़ढ जाता है।

LEAVE A REPLY