खाद्य पदार्थों, चाय व शर्बत वगैरह में मिठास के लिए आमतौर पर चीनी का उपयोग किया जाता है, लेकिन लोग यह नहीं जानते कि चीनी को पचाने में शरीर को जितनी ऊर्जा खर्च करनी प़डती है उतनी ऊर्जा उससे शरीर को प्राप्त नहीं होती है। यदि चीनी के स्थान पर गु़ड का उपयोग किया जाए तो छोटी-मोटी बीमारियों से शरीर की सुरक्षा भी होगी तथा शरीर को चीनी की तुलना में अधिक ऊर्जा मिलेगी। ख्रुठ्ठणक्क ·र्ष्ठैं झ्श्नद्बरुक्व र्झ्द्भह्ख्-ी प्रतिदिन १०-२० ग्राम गु़ड खाने से शरीर की शक्ति ब़ढती है व पैरों में दर्द नहीं होता है। ी गु़ड के सेवन से आंतों में फंसे बाल वगैरह निकल कर आंत साफ हो जाती है।ी गु़ड और काली मिर्च का सेवन करने से कफ से छुटकारा मिलता है। इसके नियमित सेवन से जुकाम नहीं होगी।ी गु़ड का शरबत पीने से गले के कैंसर से, निगलने में होने वाली दिक्कत दूर होती है।ी गु़ड का शरबत गला खोलता है। गु़ड का शरबत बनाने के लिए जल में गु़ड मिलाकर उबालें। एक-दो उबाल आने पर इसे उतार कर छान लें और घूंट-घूंट करके पीएं।

Facebook Comments

LEAVE A REPLY