धनिया रसोई में प्रयोग की जाने वाली एक सुंगंधित हरी पत्ती है जो कि भोजन को और भी स्वादिष्ट बना देती है। सामान्यतः इसका उपयोग सब़्जी की सजावट और ता़जे मसाले के रूप में किया जाता है, लेकिन इसका सेवन करने से कई फायदे हैं। ृय्ंॅ ृय्झ्·र्ैंह् द्धत्रय्त्रष्ठ ब्स्र थ्यद्मद्भय् ·र्ष्ठैं ब्स्र €द्भय् र्ड्डैंय्द्भख्रष्ठ-१.धनिया को पीसकर उसका रस निकाल ले फिर पानी में चीनी को मिला कर इस रस को भी डाल दे। इसे इस तरह पीने से गर्मियों में लगी लू से राहत मिलती है। २. सूखे धनिया का त़डका लगाने से दाल, सब्जी, भाजी का स्वाद ब़ढ जाता है। यह केवल सुगंधित मसाला ही नहीं, अच्छी दवा भी है।३. यदि मासिक धर्म में अधिक रक्त गिरने लगे तो धनियां पीसें और उसमें देसी खांड लें और घी मिलाकर खाने से आराम मिलेगा, लेकिन याद रहें तीनों की मात्रा एक जैसी हो इसके इलावा मासिक धर्म में एक ब़डा गिलास पानी लें। इसमें दो ब़डे चम्मच धनिया डालें और उसे उबालकर ले जब पानी एक चौथाई तक रह जाए तो उसमें मिश्री मिलाकर, छानकर, पी लें, कुछ दिन जारी रखें।४. अगर आप अधिक गैस से परेशान है तो धनिया से ठीक हो सकता है। जी हां, एक गिलास पानी लें, दो चम्मच धनिया मिलाकर उबालें। छानें, तीन भाग कर, दिन में तीन बार पी लें।५. खांसी हो, दमा हो, सांस फूलता हो, धनिया तथा मिश्री पीसकर रख लें। एक चम्मच चावल के पानी के साथ रोगी को पिलाएं। आराम आने लगेगा। कुछ दिन नियमित लें।६. आधा गिलास पानी लें। इसमें दो चम्मच धनिया डालें फिर उसे उबालें ले। गुनगुना कर के पी ले। जिससे पेट दर्द ठीक हो जाएंगा। ७. एक छोटा चम्मच धनिया लें। इसे एक कप बकरी के दूध में मिलाएं,मिठास के लिए मिश्री भी डाल लें। इसे पीने से पेशाब की जलन खत्म होगी। ८. हरा धनिया पीसकर, गंजे पर लेप करें। कुछ दिनों के इस उपचार से बाल आने लगते हैं और ये अजमाया जा चुका है।

Facebook Comments

LEAVE A REPLY