दौ़डने के सही परिणाम तब ही हासिल होंगे, जब आप इसके नियमों को समझेंगे। नहीं तो चोट लगने का भी डर है या फिर हो सकता है कि आपका मकसद अधूरा रह जाए। इसलिए इस उम्दा व्यायाम को शुरू करने से पहले चंद बातों का ख्याल रखें।१. सीधा देखें। सामने की ओर सिर रखकर दौ़डें। पैरों या ़जमीन को देखकर दौ़डने के प्रयास में आपका शरीर झुक जाएगा, जो गलत मुद्रा है।२. कंधों को न तानें। इन्हें ढीला छो़ड दें। कंधों पर अधिक बोझ न डालें।३. मुट्ठी कसकर बंद न रखें। मुट्ठी हल्की बंद होनी चाहिए और उंगलियां हथेलियों पर टिकी हुईं।४. दौ़डते वक्त बाजुओं को आगे व पीछे की ओर घुमाएं। अमूमन लोग दौ़डते समय बाजुओं को सीने के पास ही रखते हैं।५. पैर ़जमीन पर प़डते ही, घुटने हल्के मु़डे हुए होने चाहिए्। घुटनों पर अधिक ़जोर देकर उन्हें मो़डने का प्रयास न करें्।६. न बहुत छोटे कदम लें और न ही ब़डे। पैर उतने ही ऊपर उठाएं, जितने लम्बे कदम लेने की जरूरत महसूस हो।७. घुटनों पर ़जोर देने के बजाय अपनी पिंडलियों व तलवों पर ़जोर दें।

Facebook Comments

LEAVE A REPLY