ड्डर्ष्ठैंप्रय्प्य्स्रप्रय् ृय्स्द्य ख्ध्यत्रद्भय्ैंचेहरे की त्वचा को स्वस्थ, साफ और कोमल बनाए रखने के लिए फेशवॉश बहुत जरूरी होता है। लेकिन, आपको इसका सही तरीका भी मालूम होना चाहिए। यदि फेशवॉश का सही तरीका नहीं अपनाया जाए तो इससे चेहरे की त्वचा को नुकसान हो सकता है। जानें फेशवॉश से संबंधित गलतियां और अपने चहरे को बनाएं खिला-खिला और खूबसूरत।फ्ब्र्‍ झ्श्नह्ठ्ठण€ट्ट घ्रुद्मद्मय्फेशवॉश के लिए किसी अच्छे फेशवॉश का ही उपयोग करें। अपनी त्वचा के हिसाब से फेसवॉश चुनें क्योंकि यह आपके चेहरे की त्वचा की कुदरती नमी को बनाए रखने में मदद करता है। हर्बल फेशवॉश इसके लिए सबसे अच्छा विकल्प है। इसके साइड इफैक्ट नहीं होते। ऑयली स्किन के लिए आप नीम, ऐलोवेरा और मिंट फेशवॉश भी इस्तेमाल कर सकते हैं। इन्हें प्रयोग में लिया जा सकता है। ड्राई स्किन के लिए आप केसर, मिल्क एंड हनी फेशवॉश इस्तेमाल किया जा सकता है। वहीं डैड स्किन व टैनिंग के लिए स्क्रब वाला फेशवॉश प्रयोग किया जाता है।झ्य्द्मर्‍ ·र्ैंय् फ्ब्र्‍ त्रय्झ्द्बय्द्मफेशवॉश के लिए ज्यादा गरम पानी नहीं इस्तेमाल करना चाहिए, इससे चेहरे की स्किन खराब हो सकती है। साथ ही ज्यादा ठंडा पानी भी त्वचा के लिए सही नहीं। फेशवॉश के लिए गुनगुने या ताजे पानी का इस्तेमाल करना ही बेहतर होता है।घ्ष्ठब्द्यष्ठ ·र्ैंह् ःद्भय्ख्रय् द्यख्ठ्ठणक्कष्ठ्र द्मब्र्‍्रकुछ लोग सोचते हैं कि ज्यादा रग़डने से त्वचा ज्यादा साफ होती है, लेकिन ये सरासर गलत है। बल्कि ऐसा करना चहरे के लिए नुकसानदेह होता है। क्योंकि ऐसा करने से त्वचा की ऊपर की मुलायम परत उतर जाती है और ड्राई स्किन रह जाती है। इसलिए हल्के हाथ से और आराम से त्वचा को साफ करें और इसे रग़डें नहीं।ड्डर्ष्ठैंफ् प्य्ं्यझ्ैंख्फेस वाइपिंग अर्थात चेहरे को पोंछना त्वचा को स्वस्थ रखने का एक अच्छा तरीका है। लेकिन ज्यादा फेस वाइपिंग करने से भी त्वचा की ऊपर की परत को नुकसान हो सकता है। ऐसा करने से त्वचा की निचली कमजोर परत सीधा प्रदुषण और धूप के संपर्क में आने लगती है। ब्यूटी एक्सपर्ट के अनुसार एक दिन दो बार से ज्यादा फेस वाइपिंग नहीं करनी चाहिए। ॅ€फ्र्ड्डैंह्ध्र्‍ॅ्यट्टैंख्त्वचा की ऊपर की परत या पप़डी न उतारें। यह भी फेशवॉश से जु़डी एक महत्वपूर्ण बात है जिस पर लोग अक्सर ध्यान नहीं देते। या तो वे ज्यादा परत उतार लेते हैं, जिससे त्वचा को नुकसान होता है और मुंहासे और झाइयां भी हो सकती हैं।द्बष्ठ·र्ैंृझ् ब्ट्टय्द्मय् द्नर्‍ र्ज्चैंद्यर्‍अक्सर लोग इस पर ध्यान नहीं देते हैं। लेकिन मेकअप को हटाना सिर्फ पसंद पर निर्भर नहीं है बल्कि यह एक जरूरी बात है। ऐसा करने से आपकी त्वचा ठीक से सांस ले पाती है। मेकअप के आवरण में त्वचा सांस नहीं ले पाती है और उसे क्षति पहुंचती है। ःद्भय्ख्रय् ड्डर्ष्ठैंप्रय्प्य्स्रप्रय् ·र्ैंद्यद्मय्दिन में सुबह और शाम, दो बार फेशवॉश करना अच्छी आदत है, लेकिन यदि इसे दो से अधिक बार करना शुरू कर दिया जाए तो त्वचा को नुकसान हो सकता है। यदि आप मेक-अप, सनस्क्रीन आदि का उपयोग नहीं करते तो रात को बिना फेशवॉश जैल के, सिर्फ पानी से ही चेहरा धो सकते हैं। त्रद्यब्-त्रद्यब् ·द्द झ्श्नह्ठ्ठण€ट्टफ् ·र्ैंय् ंडत्रष्ठद्बय्ध्चेहरे की त्वचा बेहद संवेहनशील होती है। इस पर तरह-तरह के प्रोडक्टस, जैसे सुगंध, कलरेंट और सिंथैटिक पैक्स का इस्तेमाल करने से यह बेजान होने लगती है। इस लिए कोशिश करें की प्राकृतिक चीजों और नुस्खों की मदद से ही फेशवॉश करें।

LEAVE A REPLY