पुद्दुचेरी। पुद्दुचेरी के मुख्यमंत्री वी नारायणसामी ने केन्द्र को शनिवार को आगाह किया कि यदि वह कावेरी प्रबंधन बोर्ड (सीएमबी) के गठन में देरी करता है तो उसे नतीजे भुगतने प़डेंगे। नारायणसामी ने यहां संवाददाताओं से कहा कि उन्होंने और उनके मंत्रिमंडल के सदस्यों ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को उनके पुड्डुचेरी दौरे के वक्त सीएमबी गठन की मांग को लेकर एक ज्ञापन सौंपा था।मुख्यमंत्री ने कहा कि उच्चतम न्यायालय ने सीएमबी के गठन के लिए समय सीमा निर्धारित कर दी है और इस पर अब और चर्चा न करने के निर्देश दिए हैं, इसके मद्देनजर सरकार ने मुख्य सचिव और एक अन्य सचिव को केन्द्रीय जल संसाधन मंत्रालय के सचिव की ओर शुक्रवार को बुलाई गयी बैठक में शामिल होने को कहा है।नारायणसामी ने कहा कि पुद्दुचेरी, तमिलनाडु और केरल ने तत्काल सीएमबी गठन की मांग की है जबकि कर्नाटक ने इसके लिए तैयारियां करने का हवाला देते हुए कुछ समय मांगा है। उन्होंने कहा कि कर्नाटक की इस रणनीति की क़डी आलोचना की जानी चाहिए। उन्होंने कहा कि दो दिनों पूर्व उनकी ओर से यहां बुलायी गयी सर्वदलीय बैठक में सभी राजनीतिक दलों ने केन्द्र पर सीएमबी के गठन के लिए दबाव बनाने और कराईकल क्षेत्र के लिए सात अरब घन फुट पानी देने की मांग को लेकर एकजुटता प्रदर्शित की थी। केन्द्र को सीएमबी और कावेरी जल नियामक आयोग अब बिना देरी किये गठित कर देना चाहिए।नारायणसामी ने कहा कि उन्होंने इस सप्ताह की शुरुआत में केन्द्रीय पोत एवं स़डक परिवहन मंत्री नितिन गडकरी और राज्य मंत्री पोन राधाकृष्णन से मुलाकात कर उन्हें पुद्दुचेरी पोर्ट के संचालनों का उद्घाटन करने के लिए आमंत्रित किया। उन्होंने बताया कि दोनों मंत्रियों ने इसी माह के अंत में होने वाले उद्घाटन कार्यक्रम में शामिल होने की सहमति दे दी है। मद्रास पोर्ट ट्रस्ट के साथ एक सहमति पत्र पर हस्ताक्षर करने के बाद पुड्डुचेरी पोर्ट पर कंटेनर च़ढाने और उतारने का परीक्षण कार्य सफलतापूर्वक पूरा कर लिया गया है। मुख्यमंत्री ने कहा कि पुद्दुचेरी, कराईकल और माहे क्षेत्र में पाइप लाइन के जरिए घरेलू गैस की आपूर्ति से संबंधित कदम उठाये जा रहे हैं और केन्द्रीय पेट्रोलियम मंत्री धर्मेन्द्र प्रधान से गैस आपूर्ति के लिए आग्रह किया गया है। इस बारे में सारी औपचारिकताएं डे़ढ वर्ष में पूरी कर ली जायेंगी। इन्हें पूरा कर लिए जाने के बाद पुड्डुचेरी देश का पहला ऐसा राज्य बन जायेगा जहां प्रत्येक घर में घरेलू गैस पाइपलाइन के जरिए आपूर्ति की जाने लगेगी। मुख्यमंत्री ने बताया कि केन्द्र शासित प्रदेश के पुड्डुचेरी क्षेत्र के बाहौर और कराईकल के तिरुनालार गांव को केन्द्र की आदर्श ग्राम योजना के तहत चयनित किया गया है और प्रत्येक गांव के लिए १०० करो़ड रुपये आवंटित किये गये हैं।उन्होंने दावा किया कि हाल ही में पूर्वोत्तर के तीन राज्यों में हुए चुनावों में भाजपा की जीत आश्चर्यजनक नहीं है। गुजरात में भाजपा को बराबर की टक्कर दी गयी। त्रिपुरा में लोग बदलाव चाहते थे और भाजपा धन बल के इस्तेमाल से वहां चुनाव जीतने में कामयाब रही। साठ विधानसभा सीटों वाले राज्य मेघालय में भाजपा केवल दो सीटें जीत सकी जबकि नागालैंड में वह मात्र ११ सीटें जीतने में सफल रही।

Facebook Comments

LEAVE A REPLY