तिरुचि। सार्वजनिक शौचालयों की बदहाली और इसको लेकर लोगों की सोच में बदलाव लाने के लिए तिरुचि नगर निगम ने एक अनूठी पहल की है। निगम ने खाली प़डी जमीन पर एटीएम कियोस्क स्थापित करने का निर्णय लिया है। इस दिशा में पहला प्रयास थेन्नूर उझावरसंधै के पास नगर निगम के सार्वजनिक शौचालय में किया गया है जहां पर स्टेट बैंक ऑफ इंडिया का एटीएम कियोस्क स्थापित किया गया है। निगम के अधिकारियों के अनुसार शौचालय परिसर के निकट एटीएम कियोस्क होने से लोगों में शौचालय को साफ-सुथरा रखने के प्रति जागरुकता आएगी।निगम के अधिकारियों ने शनिवार को इस संबंध मेंे पत्रकारों से बातचीत में कहा कि यह सुविधा धीरे-धीरे जिले के १६ सार्वजनिक शौचालय में उपलब्ध करवाने की योजना बनाई जा रही है। अधिकारियों के अनुसार फिलहाल सार्वजनिक शौचालय की खाली जमीनों के इस्तेमाल के लिए सिर्फ स्टेट बैंक ऑफ इंडिया (एसबीआई) ने सहमति दी है। इसके जरिए निकाय निगम ने किराए के रुप में शौचालय की जमीन पर खोले जाने वाले एटीएम से १५.३ लाख रुपए का राजस्व अर्जित करने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है। ज्ञातव्य है कि निगम के ६५ वॉर्डों में ३१२ सार्वजनिक शौचालय, ८६ सैनिटरी कॉम्पलेक्स और १९ पे ऐंड यूज शौचालय हैं। तिरुचि निगम ने पिछले वर्ष नवंबर में विचार-विमर्श किया था। इसके तहत उपलब्ध साधन का इस्तेमाल करके राजस्व इकट्ठा करने की योजना बनाई गई है। निकाय अधिकारियों के अनुसार प्रत्येक एटीएम के लिए एसबीआई से ५ हजार से ११ हजार रुपए मासिक किराया लिया जाएगा। एसबीआई के अधिकारियों ने भी इसकी पुष्टि करते हुए कहा कि एक महीने की अवधि में धीरे-धीरे और भी जगह एटीएम खोले जाएंगे। निगम के आयुक्त एन रविचंद्रन ने कहा कि राजस्व जुटाने के अलावा इस मुहिम से सार्वजनिक शौचालयों का महत्व ब़ढेगा और इससे जु़डी सोच बदलेगी। यह दिल्ली के बाद किसी राज्य में उपयोग लाया जाने वाला राजस्व प्राप्त करने का ऐसा पहला मॉडल है। बैंक अधिकारियों के अनुसार राज्य के अन्य निगमों द्वारा यदि इस मॉडल में दिलचस्पी दिखाई जाती है तो बैंक द्वारा उस पर विचार विमर्श किया जा सकता है लेकिन इसके लिए शौचालय की जमीन का बैंक के पात्रता मापदंड को पूरा करना आवश्यक है।

LEAVE A REPLY