दक्षिण भारत न्यूज नेटवर्कबेंगलूरु। स्थानीय राजराजेश्वरीनगर तेरापंथ सभा के तत्वावधान में मालू अपार्टमेंट में शनिवार को साध्वीश्री कंचनप्रभाजी व मंजुरेखाजी के सान्निध्य में ‘संघ की श्रीवृद्धि एवं हमारा समर्पण’’ विषयक कार्यशाला का आयोजन हुआ। सभा के मंत्री गुलाब बांठिया ने मंगलाचरण किया व अध्यक्ष कमलसिंह दुग़ड ने सभी का स्वागत किया। इस अवसर पर कंचनप्रभाजी ने अपने उद्बोधन में कहा कि तेरापंथ धर्मसंघ ऊर्जा संपन्न है, जहां साधु-साध्वियां तथा श्रावक-श्राविकाएं आध्यात्मिक आराधना से एक गुरु की अनुशासना में चलते हुए तेजस्विता प्रदान करते है। उन्होंने कहा कि हमारा मूल मंत्र है श्रद्धा और समर्पण। स्वयं आचार्यश्री भी धर्मसंघ को सम्मान देतेे हैं, इससे हर सदस्य को प्रत्यक्ष प्रेरणा मिलती हैं। साध्वीश्री ने कहा कि संघ की श्रीवृद्धि इसी वजह से हो रही हैं। कंचनप्रभाजी ने इस अवसर पर कार्यशाला के मुख्य अतिथि जयतुलसी फाउण्डेशन के मुख्य न्यासी हीरालाल मालू के द्वारा समाज केा दी जा रही सेवाओं की अनुमोदना करते हुए कहा कि इनका जीवन संघ श्रीवृद्धि एवं हमारा समर्पण का प्रत्यक्ष उदाहरण है। इनका व्यक्तित्व एवं कृतित्व तीनों आचार्यों की असीम कृपा एवं प्रेरणा की ही उपलब्धि है। इस मौके पर साध्वीश्री मंजुरेखाजी ने कहा कि तेरापंथ धर्मसंघ में आचार्यश्री आत्मकल्याण का रास्ता प्रशस्त करते हैं, जिसको क्रियान्वित कर साधक आत्मानंद की अनुभूति करते है। उन्होंने मालू दंपति की श्रम निष्ठा को बेजो़ड बताते हुए कहा कि हीरालाल मालू व इनकी पत्नी शायरदेवी मालू की धर्मसंघ के हर कार्य में सहभागिता रहती है। हीरालाल मालू ने अपने वक्तव्य में कहा कि तेरापंथ धर्मसंघ हमारा प्राण और त्राण है। उन्होंने कहा कि हमारे यशस्वी आचार्यों व साधु-साध्वियों ने इसकी श्रीवृद्धि में महनीय योगदान दिया है। मालू ने कहा कि हमें भी समर्पणभाव से तथा गुरु इंगित आराधना से जु़़डे रहकर जहां जैसी अपेक्षा हो हर मो़ड पर जागरुक रह कर संघ को सेवाएं देनी चाहिए। महिला मंडल की अध्यक्ष कंचन छाजे़ड ने भी अपने विचार रखे। शायरदेवी मालू का सत्कार किया गया। सभी का आभार सहमंत्री विकास दुग़ड ने जताया। मंत्री संजय बैद ने संचालन किया।

Facebook Comments

LEAVE A REPLY