चेन्नई। डीजी वैष्णव कॉलेज के हिंदी विभाग, चेन्नई नगर राजभाषा कार्यान्वयन समिति इंडियन बैंक एवं पंजाब नेशनल बैंक के संयुक्त तत्वावधान में बुधवार को विश्व हिंदी दिवस के उपलक्ष्य में डिजिटल बैंकिंग पर एक संगोष्ठी का आयोजन किया गया। इस अवसर पर मुख्य अतिथि के रुप में शामिल इंडियन बैंक के कार्यपालक निदेशक एमके भट्टाचार्य ने कहा कि आने वाला समय डिजिटल है, इसलिए स्वयं को डिजिटल बनाएं। उन्होंने कहा कि इसे नहीं अपनाने पर हम विविध क्षेत्रों में पिछ़ड जाएंगे। कॉलेज के सचिव अशोककुमार मूंद़डा ने कहा कि हिंदी मात्र एक भाषा नहीं बल्कि एक संस्कृति व संस्कार है, इसे ब़ढावा दिया जाना चाहिए। पंजाब नेशनल बैंक के उप महाप्रबंधक (अचल) पी.चंद्रकुमार ने कहा कि भाषा तो सदैव हमारे मन में होनी चाहिए, उसके लिए हर दिन दिवस होना चाहिए, एक दिन ही क्यों? इंडियन बैंके के महाप्रबंधक टीएस शेषाद्री ने कहा कि ऐसी संगोष्ठी से जानकारी व जागरुकता ब़ढती है। हिंदी विभाग के प्रातःकालीन सत्र के अध्यक्ष डॉ. मनोजकुमार सिंह, सायंकालीन सत्र के विभागाध्यक्ष डॉ. अशोक द्विवेदी, क्षेत्रीय कार्यान्वयन कार्यालय (कोच्चि) की सहायक निदेशक डॉ.सुष्मिता भट्टाचार्य ने भी अपने-अपने विचार रखे। इस अवसर पर दोनों बैंकों ने ऑडियो विजुअल के माध्यम से डिजिटल बैंकिंग पर प्रकाश डाला व प्रश्नोत्तरी प्रतियोगिता आयोजित की, जिसमें विद्यार्थियों ने नगद पुरस्कार जीते। कॉलेज के प्राचार्य डॉ.टी.संथानम ने अध्यक्षीय वक्तव्य दिया। इंडियन बैंक के अजयकुमार ने सभी का स्वागत किया। निपुण जैन ने संचालन किया।

कार्यक्रम का उद्घाटन दीप प्रज्ज्वलित कर करते हुए इंडियन बैंक के कार्यपालक निदेशक एमके भट्टाचार्य।

LEAVE A REPLY