दक्षिण भारत न्यूज नेटवर्कचेन्नई। यहां चेंगलपेट स्थित विद्यासागर महिला शिक्षक शिक्षा महाविद्यालय में वार्षिक खेलकूद दिवस व वार्षिकोत्सव हर्षोल्लास से शुक्रवार को संपन्न हुआ। पत्राचारक विकास सुराणा ने सभी का स्वागत किया। कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के रुप में नटेसन विद्याशाला की पत्राचारक डॉ गायत्री रामचन्द्रन ने इस अवसर पर अपने उद्बोधन में कहा कि बीएड कॉलेज में शिक्षा प्राप्त करने वाली भविष्य की शिक्षिकाएं विद्यार्थियों से लगाव रखंे तभी शिक्षा प्रणाली प्रभावी ढंग से कार्य करेगी। उन्होंने कहा कि जो शिक्षिकाएं संयोग से बनती है वे अपने धर्म का निर्वहन नहीं कर पाती हैं, लेकिन जो शिक्षक बनने की चाहत रख कर इस मार्ग का चयन करती हैंं वे उत्तम शिक्षा प्रदान करने में सक्षम रहती हैं। डॉ.गायत्री ने यह भी कहा कि अंग्रेजी भाषा के ज्ञान से ज्यादा महत्व शिक्षण पद्धति में गुणवता और दक्षता के उपयोग को दिया जाना चाहिए। संस्था की वार्षिक पत्रिका विद्या लहरी का विमोचन भी डॉ. गायत्री ने किया। इस अवसर पर अतिथि डॉ. गायत्री का सत्कार संस्था के निदेशक बृजगोपाल आचार्य व कोषाध्यक्ष सुरेश कांकरिया ने किया। उपप्राचार्य बृंदामणि ने वार्षिक रिपोर्ट प्रस्तुत करते हुए बीएड कॉलेज की उपलब्धियों पर प्रकाश डाला। कार्यक्रम में वाद विवाद प्रतियोगिता का आयोजन किया गया। बीएड प्रथम और द्वितीय वर्ष की छात्राओं ने सांस्कृतिक कार्यक्रम प्रस्तुत किया। मुख्य अतिथि द्वारा खेलकूद और सांस्कृतिक प्रतियोगिताओं में भाग लेकर प्रथम व द्वितीय स्थान प्राप्त करने वाली छात्राओं को प्रतीक चिन्ह प्रदान कर पुरुस्कृत किया। खेलकूद और संस्कृति कार्यक्रम में पारंगत छात्र शिक्षिका पी शर्मीला को ओवर आल शील्ड प्रदान कर सम्मानित किया गया। छात्र शिक्षिका ऐश्वर्या ने सभी का आभार ज्ञापित किया।

LEAVE A REPLY