नई दिल्ली। आयकर विभाग ने ३,५०० करो़ड रुपए से ज्यादा मूल्य की ९०० से अधिक बेनामी संपत्तियां जब्त की हैं। इसमें फ्लैट, दुकानें, आभूषण और वाहन इत्यादि शामिल हैं। आयकर विभाग ने गुरुवार को एक बयान में कहा कि उसने बेनामी संपत्ति लेन-देन रोकथाम कानून के तहत यह कार्रवाई तेज कर दी है। उल्लेखनीय है कि यह कानून एक नवंबर २०१६ से प्रभावी हुआ है। इस कानून के तहत पहले चल-अचल किसी किस्म की बेनामी संपत्तियों को फौरी तौर पर कुर्क करने और फिर उनको पक्के तौर पर जब्त करने की कार्रवाई करने के प्रावधान है। इसके अलावा इसके तहत ऐसी सम्पत्तियों का वास्तविक लाभ लेने वाले स्वामी, बेनामी संपत्ति धारक और बेनामी संपत्ति के लिए लेनदेन करने वालों के खिलाफ अभियोग चलाया जा सकता है। इसके तहत दोषियों को सात साल तक का सश्रम कारावास और संपत्ति के उचित बाजार मूल्य के २५% तक जुर्माने का भी प्रावधान है। आयकर विभाग ने मई २०१७ में देशभर में अपने अन्वेषण निदेशालय के तहत २४ खास बेनामी रोकथाम इकाइयां गठित की हैं, ताकि इस कानून का अनुपालन आसान किया जा सके। बयान में कहा गया है, विभाग के सघन प्रयासों के चलते ९०० से अधिक संपत्तियों की अस्थायी जब्ती की गई है। विभाग ने कहा कि जब्त की गई संपत्तियों का मूल्य ३,५०० करो़ड रुपए से अधिक है जिसमें २,९०० करो़ड रुपए से अधिक की अचल संपत्तियां शामिल हैं।

LEAVE A REPLY