श्रीनगर। सीआरपीएफ के एक शिविर पर हमला करने की आतंकवादियों की कोशिश नाकाम होने के बाद सुरक्षा बलों और लश्कर के दो आतंकियों के बीच पिछले ३२ घंटे से चल रही मुठभे़ड दोनो आतंकियों के ढेर होने के बाद मंगलवार को समाप्त हो गई। पुलिस ने यह जानकारी दी। शहर के बीचोंबीच स्थित करन नगर में एक निर्माणाधीन इमारत में छिपे आतंकियों को निकालने के लिए जम्मू कश्मीर के विशेष अभियान समूह और केन्द्रीय आरक्षी पुलिस बल ने मोर्चा संभाला। एक पुलिस अधिकारी ने यह जानकारी दी। उन्होंने स्पष्ट किया कि सेना ने इस अभियान में हिस्सा नहीं लिया।कश्मीर के पुलिस महा निरीक्षक एसपी पाणि ने बताया कि जिन आतंकवादियों ने सोमवार को सवेरे करन नगर इलाके में सीआरपीएफ के शिविर पर हमला करने का प्रयास किया था, वह लश्कर-ए-तैयबा आतंकी गिरोह से जु़डे थे। उन्होंने सीआरपीएफ अधिकारियों के साथ एक संयुक्त संवाददाता सम्मेलन में कहा, मुठभे़ड की जगह से हमें जो सामान मिला है, उसे देखकर लगता है कि आतंकी लश्कर से जु़डे थे। पाणि ने कहा कि यह आतंकियों के सफाए का अभियान था और यह लंबा इसलिए चला क्योंकि जिस इमारत में आतंकी छिपे हुए थे वह एक पांच मंजिला ढांचा था। सतर्क सुरक्षा बलों ने हमलावर आतंकवादियों को देखते ही उनपर तत्काल गोलियां चला दीं और सीआरपीएफ शिविर पर हमला करने की उनकी कोशिश को नाकाम कर दिया, जिसके बाद वह करन नगर इलाके की इस निर्माणाधीन इमारत में घुस गए।

LEAVE A REPLY