दादर कलां (मिर्जापुर)। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुअल मैक्रों ने सोमवार को मिर्जापुर जिले में उत्तर प्रदेश के सबसे ब़डे सौर ऊर्जा संयंत्र का लोकार्पण किया। मैक्रों और उनकी पत्नी ब्रिगिट की प्रधानमंत्री मोदी, उत्तर प्रदेश के राज्यपाल राम नाईक और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने अगवानी की। उसके बाद वे छानवे ब्लॉक स्थित दादर कलां के लिए रवाना हुए जहां मोदी और मैक्रों ने उत्तर प्रदेश के सबसे ब़डे सौर ऊर्जा संयंत्र का लोकार्पण किया।प्रधानमंत्री मोदी और फ्रांसीसी राष्ट्रपति ने बटन दबाकर ७५ मेगावॉट उत्पादन क्षमता वाले इस सौर ऊर्जा संयंत्र का लोकार्पण किया। विंध्य की पहाि़डयों में बसे दादर कलां गांव के ३८० एक़ड से ज्यादा क्षेत्र में फैले इस विशाल संयंत्र में करीब एक लाख १९ हजार सौर पैनल लगे हैं। इसका निर्माण फ्रांस की कम्पनी एनगी’’ द्वारा करीब ५०० करो़ड रुपये की लागत से किया गया है। इस संयंत्र में हर साल १५.६ करो़ड यूनिट और प्रतिमाह एक करो़ड ३० लाख यूनिट बिजली पैदा होगी। उत्पादित बिजली को मिर्जापुर के जिगना में स्थित उत्तर प्रदेश पॉवर कारपोरेशन लिमिटेड के बिजली उपकेन्द्र के हवाले किया जाएगा। इस वक्त भारत की अक्षय ऊर्जा क्षमता करीब ६३ गीगावॉट है। देश में वैकल्पिक ऊर्जा संयंत्रों के ब़ढते उपयोग के मद्देनजर सौर उत्पादित बिजली तथा वायु उत्पादित विद्युत की कीमत २.४४ रुपये प्रति यूनिट और ३.४६ रुपये प्रति यूनिट के अपने न्यूनतम स्तर पर आ चुकी है।

LEAVE A REPLY