मुंबई/भाषाकांग्रेस के वरिष्ठ नेता राधाकृष्ण विखे पाटिल ने आज कहा कि केंद्र का फर्जी खबर पर प्रेस विज्ञप्ति जारी करने के २४ घंटे के भीतर उसे वापस लेना लोकतंत्र और मीडिया की जीत है। उन्होंने आरोप लगाया कि फर्जी खबर पर प्रेस विज्ञप्ति के जरिए सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय ने मीडिया की स्वायत्तता पर पाबंदी लगाने का प्रयास किया था। महाराष्ट्र विधानसभा में विपक्ष के नेता विखे पाटिल ने कहा, सरकार को२४ घंटे के भीतर इसे (प्रेस विज्ञप्ति) वापस लेना प़डा और यह लोकतंत्र और मीडिया की ब़डी जीत है। मैं सभी पत्रकारों को बधाई देता हूं, जिन्होंने एकजुट होकर फैसले का विरोध किया। उन्होंने मराठी में किए गए अपने ट्वीट में कहा, फर्जी खबर के नाम पर सरकार ने मीडिया की स्वायत्तता पर पाबंदी लगाने की कोशिश की थी। सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय ने कल कहा था कि अगर कोई पत्रकार फर्जी खबर ग़ढते या उसका प्रसार करते पाया गया तो उसकी मान्यता स्थाई तौर पर रद्द की जा सकती है। मंत्रालय ने कहा था, एक बार फर्जी खबर के निर्धारण के लिए शिकायत दर्ज कर ली जाती है तो जिस पत्रकार ने भी उसे ग़ढा होगा या उसका प्रसार कर रहा होगा उसकी मान्यता फर्जी खबर के निर्धारण तक निलंबित कर दी जाएगी। फर्जी खबर क्या होगा इसपर फैसला करने की शक्ति प्रेस निकायों पर छो़ड दी गई थी। इस दिशा- निर्देश पर विपक्षी कांग्रेस और पत्रकारों ने तीखी प्रतिक्रिया व्यक्त की थी।

Facebook Comments

LEAVE A REPLY