चेन्नई। सोमवार की अल सुबह तमिलनाडु के थेनी जिले में स्थित कुरांगनी वन क्षेत्र में लगी भयानक आग में वन क्षेत्र में ट्रैकिंग के लिए गए ३६ लोगों के समूह में से ९ लोगों की मौत हो गई और १७ लोग गंभीर रुप से झुलस गए। सभी घायलों को अस्पताल में भर्ती कराया गया है। घायलों के ७० प्रतिशत तक झुलसने की बात कही जा रही है। भारतीय वायु सेना, वन विभाग और पुलिस ने १० लोगों को सुरक्षित बाहर निकाल लिया। घटना की जानकारी मिलने के बाद मुख्यमंत्री ईडाप्पाडी के पलानीस्वामी ने पत्रकारों से बातचीत के दौरान इस घटना पर दु:ख प्रकट किया। उप मुख्यमंत्री ओ पन्नीरसेल्वम और वन मंत्री डिंडिगल श्रीनिवासन ने वरिष्ठ अधिकारियों के साथ थेनी और मदुरै जिले के सरकारी अस्पतालों में भर्ती घायलों से बातचीत की और अस्पताल के चिकित्सकों को सभी घायलों को समुचित उपचार देने का दिशा निर्देश दिया। रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण ने पत्रकारों से बातचीत में कहा कि जंगल में आग लगने की जानकारी मिलने के बाद भारतीय वायु सेना के चार हेलिकॉप्टरों को वन क्षेत्र में फंसे लोगों को बचाने और आग बुझाने के लिए तैनात किया गया। तीन हेलिकॉप्टरों को लोगों को जंगल से बाहर निकालने और एक हेलिकॉप्टर को आग बुझाने के लिए तैनात किया गया। रक्षा मंत्री ने बताया कि सुबह तीन बजे से ही वायु सेना के १६ गरु़ड जवानों की टीम को बचाव कार्य और आग को नियंत्रित करने के कार्य में लगा दिया गया।

LEAVE A REPLY