नई दिल्ली। राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग (एनएचआरसी) ने जम्मू-कश्मीर में सेना के जवानों पर स्थानीय लोगों द्वारा पथराव की घटनाओं में जवानों के मानवाधिकारों के हनन की शिकायत पर रक्षा मंत्रालय से चार सप्ताह में वास्तविक स्थिति की जानकारी देने को कहा है। आयोग ने यह कदम सेना के अधिकारियों के तीन बच्चों की शिकायत का संज्ञान लेते हुए उठाया है। शिकायत में इन बच्चों ने कहा है कि वे उग्र भी़ड द्वारा जवानों पर पथराव की घटनाओं से चिंतित हैं। उन्होंने मीडिया रिपोर्टों के हवाले से आरोप लगाया है कि शोपियां की घटना अवांछित और बिना उकसावे के की गई और इस मामले में सेना के जवानों के खिलाफ ही प्राथमिकी भी दर्ज कराई गई है। शिकायत में पथराव की घटनाओं का सिलसिलेवार ब्यौरा देते हुए कहा गया है कि सेना को लोगों की सुरक्षा के लिए तैनात किया गया है पर उनके ही खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की जा रही है। शिकायत में आयोग से शोपियां मामले की तह में जाकर सही स्थिति का पता लगाने तथा सेनाओं के मानवाधिकारों के उल्लंघन की घटनाओं का संज्ञान लेने की मांग की गई है।

Facebook Comments

LEAVE A REPLY