बेंगलूरु/वार्ताभारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ नेता एवं कर्नाटक के प्रभारी प्रकाश जाव़डेकर ने गुरुवार को आरोप लगाया कि कांग्रेस पार्टी ने अपने कुछ विधायकों के जाली हस्ताक्षर कर विधायकों की सूची राज्य के राज्यपाल को सौंपी है। एक पत्रकार वार्ता को संबोधित करते हुए केन्द्रीय मानव संसाधन मंत्री प्रकाश जाव़डेकर ने कहा कि यह किसी के लिए भी बहुत आश्चर्य की बात होगी कि विजयी विधायक के अपने अपने विधानसभा क्षेत्र से बेंगलूरु आने से एवं कांग्रेस संसदीय दल की बैठक में उपस्थित होने से पहले ही कांग्रेस पार्टी ने किस तरह विधायकों के हस्ताक्षर प्राप्त कर लिए। उन्होंने कहा कि जाली हस्ताक्षर व अन्य डाक्यूमेन्ट मामला इस ग्रांड ओल्ड पार्टी के लिए कोई नई बात नहीं है। जाव़डेकर ने मणिपुर का उदाहरण देते हुए कहा कि जब मणिपुर में त्रिशंकु जनादेश आया था तब भी कांग्रेस ने मणिपुर पीपुल्स पार्टी के नाम से जाली समर्थन पत्र बनाया था। परन्तु इस जालसाजी का पता लग गया था। उसी तरह कर्नाटक में भी कांग्रेस पार्टी ने जालसाजी का अपना पुराना पैंतरा अपनाया है। कांग्रेस अब जालसाजी का पर्याय बन गई है । कर्नाटक में राज्यपाल द्वारा बीएस येड्डीयुरप्पा के नेतृत्व में भारतीय जनता पार्टी को सरकार बनाने के न्यौते के निर्णय का समर्थन करते हुए प्रकाश जाव़डेकर ने कहा कि राज्यपाल वजुभाई वाला ने पूर्ण रुप से नियमों का पालन करते हुए येड्डीयुरप्पा को शपथ दिलवाई है । उन्होंने कहा कि कर्नाटक में चुनाव से पहले किसी भी पार्टी का गठबंधन नहीं था। जनता दल(एस) एवं कांग्रेस एक-दूसरे की धुरविरोधी पार्टी थीं। पूर्व मुख्यमंत्री सिद्दरामैया चुनाव के दौरान एचडीकुमार स्वामी को नाम से बुलाते थे। कांग्रेस पार्टी के नेता कहते थे कि वे कुमारस्वामी के पिता की कसम खाते हैं कि कुमारस्वामी तो कभी मुख्यमंत्री बन ही नहीं सकते और जनता दल एस भी कांग्रेस के साथ ऐसा ही व्यवहार करती थी। जाव़डेकर ने कहा कि चुनाव प्रचार के दौरान कांग्रेस के राष्ट्रीय नेता राहुल गांधी ने तो जनता दल (एस) को भाजपा की ‘बी‘ टीम बताया था तथा जद(एस) को जनता दल संघ परिवार की उपमा दी थी और अब चुनाव के बाद दोनों पार्टी एक दूसरे के लिए गठबंधन कर रही हैं जो कि कुछ भी नहीं शुद्ध रुप से अवसरवादी कदम है। उन्होंने कहा कि राज्यपाल ने चुनाव परिणाम के बाद सबसे ब़़डी पार्टी के रुप में उभरी भाजपा को बुलाकर सरकार बनाने का तथा सदन में बहुमत सिद्ध करने का जो मौका दिया है वह पूर्ण रुप से न्यायसंगत है।

LEAVE A REPLY