नई दिल्ली। दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने इंडियन मुजाहिदीन के मोस्ट वांटेड आतंकवादी आरिज खान उर्फ जुनैद को गिरफ्तार किया है। स्पेशल सेल के पुलिस उपायुक्त प्रमोद सिंह कुशवाहा ने बुधवार को यहां पुलिस मुख्यालय में संवाददाताओं को बताया कि जुनैद को भारत-नेपाल सीमा के पास बनवसा से गिरफ्तार किया गया। पुलिस को खुफिया जानकारी मिली थी कि जुनैद बनवासा में किसी से मिलने के लिए आने वाला है। उसके बाद पुलिस ने जाल बिछाकर उसे पक़डकर ब़डी कामयाबी हासिल की है। कुशवाहा ने बताया कि वह कई बम धमाकों में शामिल रहा है। इन धमाकों में १६५ लोग मारे गए तथा ५३५ लोग घायल हुए हैं। वह बम बनाने में माहिर है। उपयुक्त ने बताया कि जुनैद दिल्ली के जामिया नगर इलाके में वर्ष २००८ को हुए बटला हाउस मुठभे़ड में भी शामिल था। मुठभे़ड के दौरान वह फरार हो गया था। बटला हाउस मुठभे़ड के बाद वह करीब एक महीने तक भारत में रहा और उसके बाद नेपाल चला गया। इस एक महीने में किसी ने उसे अपने यहां शरण नहीं दी और इस तरह वह बसों और ट्रेनों में सफर करता रहा और फिर नेपाल चला गया। नेपाल में उसने नेपाली ल़डकी से शादी कर ली थी। उन्होंने कहा कि जुनैद पर १५ लाख रुपए का इनाम रखा गया था। एनआईए ने दस लाख रुपए तथा दिल्ली पुलिस ने पांच लाख रुपए का इनाम रखा था। बटला हाउस के अलावा जुनैद कई अन्य मामले में भी वांछित था। कुशवाहा ने बताया कि जुनैद मूल रूप से उत्तर प्रदेश के आजमग़ढ का रहने वाला है। पेशे से इंजीनियर जुनैद वर्ष २००८ में बटला हाउस मुठभे़ड के दौरान फरार हो गया था। यह मुठभे़ड दिल्ली के पहा़डगंज, बाराखंभा रोड, कनॉट प्लेस, ग्रेटर कैलाश और गोविंदपुरी में सिलसिलेवार बम धमाकों के छह दिन बाद हुई थी। इन धमाकों में ३० लोग मारे गए थे, जबकि १०० से ज्यादा लोग घायल हो गए थे। जुनैद पर इन धमाकों में शामिल होने का आरोप है। उन्होंने बताया कि जुनैद ने पूछताछ में बताया कि भारत में इंडियन मुजाहिदीन और सिमी को पुनर्जीवित करने की साजिश थी। उन्होंने कहा कि इसका एक साथी तौकीर पहले ही गिरफ्तार किया गया है। जुनैद और तौकीर नेपाल में एक ही स्कूल में प़ढाता था।

LEAVE A REPLY