sushma swaraj
sushma swaraj

न्यूयॉर्क। विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने शनिवार को अमेरिका के न्यूयॉर्क में संयुक्त राष्ट्र महासभा के 73वें सत्र को संबोधित किया। इस दौरान उन्होंने भारत को आतंकवाद से पीड़ित और पाकिस्तान को आतंकवाद का आश्रयदाता बताया। उन्होंने पाकिस्तान की आतंकी हरकतों के बारे में दुनिया को आगाह किया और कहा कि यह आतंकवाद को अंजाम देने के साथ ही उसे छुपाने में भी माहिर है। उन्होंने अमेरिकी हमले में मारे गए दुर्दांत आतंकी ओसामा बिना लादेन का जिक्र करते हुए कहा कि वह भी पाकिस्तान में ही था।

सुषमा स्वराज ने पाकिस्तान की नीयत पर सवाल उठाते हुए कहा कि मुंबई आतंकी हमले का मुख्य साजिशकर्ता हाफिज सईद पाकिस्तान में रैलियां कर रहा है और भारत को धमकियां भी दे रहा है। उन्होंने स्पष्ट कहा कि पाकिस्तान इस आतंकवादी पर कार्रवाई करने का इच्छुक नहीं है, बल्कि वह तो इसे संरक्षण दे रहा है, जिसका नाम संयुक्त राष्ट्र की प्रतिबंधित सूची में भी शुमार है।

दशकों से झेल रहे आतंक का दंश
सुषमा स्वराज ने कहा कि भारत आतंकवाद का दंश दशकों से झेल रहा है। हमें पड़ोसी देश से ही आतंकवाद का सामना करना पड़ रहा है। उन्होंने साफ कहा कि पाकिस्तान न केवल आतंकवाद को बढ़ा रहा है बल्कि वह इसे करके नकारता भी है। उन्होंने आतंकी ओसामा पर कहा कि उसे पाकिस्तान छुपाए रहा लेकिन सारा सच आ जाने के बाद भी उसके चेहरे पर न झेंप है और न सिकन।

उन्होंने कहा, 9/11 का मास्टरमाइंड तो मारा गया, लेकिन 26/11 का मास्टरमाइंड हा​फिज सईद पाकिस्तान में चुनाव लड़ रहा है। उन्होंने भारत द्वारा शांति की पहल के बाद पाकिस्तान की ओर से मिले धोखे पर कहा, भारत ने पाकिस्तान से कई बात बात करने की कोशिश की। मैंने खुद इस्लामाबाद जाकर बातचीत की शुरुआत की लेकिन तत्काल ही पठानकोट में हमारे एयरबेस पर हमला कर दिया।

पाक की हरकतों से टली बातचीत
सुषमा स्वराज ने कहा कि यदि अब न जागे तो आतंकवाद का दानव पूरी दुनिया को निगल लेगा। उन्होंने पाकिस्तान के इस आरोप का भी जवाब दिया जिसमें उसने कहा था कि भारत बातचीत का इच्छुक नहीं है। उन्होंने कहा कि भारत हर मुद्दे को बातचीत के जरिए ही सुलझाने का पक्षधर है लेकिन यह पाकिस्तान की हरकतों की वजह से टल रही है।

सुषमा स्वराज ने भारत की सनातन संस्कृति ‘वसुधैव कुटुंबकम्’ का उल्लेख किया और कहा कि हम इसमें विश्वास करते हैं। उन्होंने विकास के प्रति भारत के रुख को रेखांकित किया और कहा कि भारत सरकार ने 2015 में संयुक्त राष्ट्र टिकाऊ विकास के लिए लक्ष्य रखा था और वह 2030 के संयुक्त राष्ट्र के टिकाऊ विकास के एजेंडे को लेकर प्रतिबद्ध है।

प्रतिबद्धता का प्रतीक भारत
सुषमा स्वराज ने मोदी सरकार की जनधन योजना और आयुष्मान भारत योजना के बारे में भी बताया। उन्होंने कहा कि 2022 तक हमारा संकल्प ‘स्वस्थ भारत, स्वच्छ भारत और संपन्न भारत’ है। उसी साल भारत की आज़ादी को 75 साल हो जाएंगे। सुषमा स्वराज ने जलवायु परिवर्तन और आतंकवाद को दुनिया के लिए सबसे बड़ी चुनौती बताया। उन्होंने पर्यावरण की सुरक्षा के लिए भारत की प्रतिबद्धता जताई।

LEAVE A REPLY