jamun benefits
jamun benefits

बेंगलूरु। गर्मी के मौसम में जो ठंडक देने वाले फल होते हैं, उनमें ‘जामुन’ का विशेष नाम तथा महत्व है। जामुन की तासीर ठंडी होना इसकी विशेषता है। जामुन का फल तथा इसकी गुठली, दोनों का स्वागत किया जाता है चिकित्सा में। व्यक्ति के शरीर को घेरने वाले रोगों में मधुमेह को गंभीर रोग माना गया है।

शुगर का सामान्य मात्रा से बढ़ जाना तो परेशानी पैदा करता ही है, इसका कम (लो) हो जाना तो और भी खतरनाक है। शुगर के रोगियों की संख्या लगातार बढ़ रही है। इस भयंकर रोग ने अपने पांव तेजी से फैलाए हैं, इसीलिए हर व्यक्ति को सतर्क रहना जरूरी है।

इसके लिए जामुन की गुठलियां सुखाकर चूर्ण बना लें। इस चूर्ण को प्रतिदिन रोगी प्रात:-सायं खाया करें। मात्रा, एक समय में एक चम्मच। जरूर लाभ होगा। गुठली है तो भी, नहीं है तो भी, जामुन के पेड़ की कोपलें पूरे साल उपलब्ध रहती हैं।

दो सौ पचास ग्राम के लगभग पत्ते लें। इन्हें पानी में उबालें। जब पानी आधा रह जाए तो ठंडा होने दें। फिर पत्तों को अच्छी तरह मसलें। कांच या चीनी के बर्तन में पानी छानें। इसे प्रतिदिन मधुमेह रोगी पिया करें। भले ही उपचार लम्बा है, पर ठीक कर देता है।

शुगर का रोगी कोई भी उपचार करे, फायदा तभी होगा जब वह परहेज करेगा। मीठा, चावल, आलू, खट्टी चीजें, केला, हर प्रकार की मिठाई से जरूर बचें।

पीलिया भी गंभीर, भयानक, दुष्ट रोग है। प्रतिदिन प्रात: एक पाव जामुन नमक लगाकर रोगी बड़े ही स्वाद के साथ खाया करें। गर्म चीजों से परहेज करते हुए एक महीना यह उपचार करते रहना है। पेट के रोगी को जामुन का नमक मिला चूर्ण प्रात:-सायं एक चम्मच ताजा पानी से दिया करें। विधिवत प्रयोग से जामुन गैस रोग, दस्त रोग तथा जिगर रोग को भी ठीक कर देता है।

ये भी पढ़िए:
– कई तकलीफों की एक दवा है अजवाइन, इन बीमारियों में देती है आराम
– सेहत और सौभाग्य चाहते हैं तो रसोई में न करें ये गलतियां वरना हमेशा रहेंगे परेशान
– फ्राइड फूड देखते ही आ जाता है मुंह में पानी, क्या ये नुकसान सहने के लिए हैं तैयार?

LEAVE A REPLY