नई दिल्ली। भारत से नफरत की बुनियाद पर बना पाकिस्तान दिनोंदिन अमेरिका से कर्जा लेकर किसी तरह गुजारा कर रहा है, पर अपनी करतूतों से बाज नहीं आ रहा। एक रिपोर्ट के अनुसार, अब जबकि पाकिस्तान यह अच्छी तरह समझ चुका है कि वह आमने-सामने की लड़ाई में भारत के सामने नहीं टिक पाएगा, तो उसकी खुफिया एजेंसियों ने लड़ाई का मैदान बदल लिया है।

अब वे सोशल मीडिया के विभिन्न स्वरूपों के माध्यम से भारत को नुकसान पहुंचाने की साजिश रहे हैं। पाकिस्तानी एजेंसियां साइबर घुसपैठ के जरिए भारत में दाखिल होना चाहती हैं। इसके लिए उन्होंने खासी तैयारी कर रखी है। चूंकि इन दिनों वॉट्सअप बहुत प्रचलन में है, इसलिए वे इसके जरिए कुछ खास तरह के लिंक भारतीय यूजर्स को भेजते हैं। जब यहां लोग उन पर क्लिक करते हैं तो उनके मोबाइल फोन, कम्प्यूटर, लैपटॉप आदि वायरस के शिकार हो जाते हैं।

पाकिस्तानी एजेंसियां भारतीय यूजर्स का डेटा चुरा सकती हैं और बाद में उसका इस्तेमाल हमारे देश के खिलाफ कर सकती हैं। यही नहीं, इनसे किसी यूजर को ब्लैकमेल कर देशविरोधी कार्य के लिए उकसाया जा सकता है। प्राय: इसके लिए +92 जो कि पाकिस्तान का कोड है, का इस्तेमाल किया जाता है, लेकिन यह जरूरी नहीं। कई बार पाकिस्तानी एजेंसियां खाड़ी देशों के किसी नंबर का भी इस्तेमाल करती हैं।

अक्सर ऐसा होता है कि इनके लिंक पर क्लिक करने के बाद यूजर अपने आप ही किसी ग्रुप से जुड़ जाता है। फिर उसके पास आपत्तिजनक मैसेज, वीडियो वगैरह आने लगते हैं। ये सब मोबाइल फोन का डेटा चुराकर मिनटों में कराची, रावलपिंडी, लाहौर या इस्लामाबाद भेज सकते हैं। पाकिस्तानियों ने आई लव माय सिस्टर, इंटरकनेक्टेड जैसे नामों वाले कई ग्रुप बना रखे हैं।

एक रिपोर्ट के अनुसार, इन दिनों केरल में काफी तादाद में लोगों को इस किस्म के मैसेज मिल रहे हैं। सायबर विशेषज्ञ कहते हैं कि यह पाकिस्तानी हैकरों की करतूत है जो वहां की एजेंसियों के इशारे पर काम करते हैं। कश्मीर में लगातार शिकस्त खाने के बाद अब पाकिस्तान भारत के दूसरे हिस्सों को निशाना बनाने की साजिश रच सकता है।

भारत के सुरक्षा विशेषज्ञ पूर्व में ऐसे कुछ मामलों का खुलासा कर चुके हैं जब आईएसआई ने लड़कियों का इस्तेमाल कर भारतीय युवाओं को फंसाया, उनसे जासूसी करवाई। आईएसआई ऐसे हथकंडे अपनाती रहती है। इसलिए सोशल मीडिया का इस्तेमाल करते वक्त बहुत सावधानी रखनी चाहिए।

ये भी पढ़ें:
– 13 साल में ऐसे बदला ममता का नजरिया, तब घुसपैठ को बताया आपदा, लोकसभा में फेंके कागज
– अब अमित शाह के प. बंगाल दौरे की तैयारी, बोले- ‘जरूर जाऊंगा, चाहें तो गिरफ्तार कर लें ममता’
– क्या मुलायम के खास रहे अमर सिंह आज़मगढ़ से लड़ेंगे उनके खिलाफ चुनाव?

LEAVE A REPLY