आलिया कहती हैं कि उन्होंने लादेन को हमेशा गलत किस्म के लोगों से दूर रहने के लिए कहा था, पर वह नहीं माना। अस्सी के दशक में वह अफगानिस्तान चला गया और वहां सोवियत संघ के खिलाफ लड़ाई में शामिल हुआ। लादेन के बारे में कभी नहीं सोचा था कि वह एक दिन इतना कुख्यात आतंकी बन हजारों लोगों को मौत के घाट उतार देगा।

रियाद। खूंखार आतंकी ओसामा बिन लादेन की मां आलिया घानेम ने पहली बार मीडिया के सामने आकर अपने बेटे की ज़िंदगी से जुड़े कई राज़ बताए हैं। उन्होंने बताया है कि लादेन बचपन में बहुत शर्मीला था। वह आम बच्चों की तरह था, जिसके बारे में किसी ने यह अंदाजा नहीं लगाया था कि एक दिन आतंकवादी बन जाएगा। आलिया ने कहा है कि वह उससे बहुत प्यार करता था। पढ़ाई में भी बहुत होशियार था लेकिन बाद में गलत लोगों की संगति उसे दहशत की दुनिया में ले गई।

आलिया ने बताया कि लादेन उनसे बहुत लगाव रखता था। जब वह किंग अब्दुल अजीज यूनिवर्सिटी में पढ़ाई के लिए गया तो वहां उसका कट्टरपंथ से परिचय हुआ। वहां जाकर वह पूरी तरह बदल गया। आलिया कहती हैं कि यूनिवर्सिटी में वह एक अलग आदमी बन गया। वहां उसे अब्दुल्ला अजाम नामक शख्स मिला। वह उसका गुरु बना। आलिया ने अपने बेटे के शुरुआती दिनों को याद करते हुए कहा कि तब वह बहुत अच्छा बच्चा था। फिर लोगों ने उसका ब्रेनवॉश कर दिया।

आलिया कहती हैं कि उन्होंने लादेन को हमेशा गलत किस्म के लोगों से दूर रहने के लिए कहा था, पर वह नहीं माना। अस्सी के दशक में वह अफगानिस्तान चला गया और वहां सोवियत संघ के खिलाफ लड़ाई में शामिल हुआ। उन्होंने बताया कि लादेन के बारे में कभी नहीं सोचा था कि वह एक दिन इतना कुख्यात आतंकी बन हजारों लोगों को मौत के घाट उतार देगा।

Mother of Osama
Mother of Osama

जब उन्हें पहली बार मालूम हुआ कि लादेन गलत रास्ते पर चला गया है तो बहुत दुख हुआ। वे बताती हैं, हम बेहद दुखी थे और नहीं चाहते थे कि ऐसा किसी अन्य के साथ हो। हालांकि उन्होंने 1999 में आखिरी बार लादेन से मुलाकात की। उस वक्त वह कंधार के बाहर अपने आतंकी ठिकाने में पनाह लिए था। जब अमेरिका पर 9/11 का हमला हुआ तो परिवार को तुरंत शक हो गया कि यह करतूत लादेन और उसके आतंकियों की है।

लादने के एक भाई ने कहा कि वे सब बहुत शर्मिंदगी महसूस कर रहे थे। आलिया लादेन के आतंकी बनने में उन लोगों को ज्यादा कसूरवार मानती हैं जिन्होंने उसे भड़काया। आतंकी ओसामा बिन लादेन को 2 मई, 2011 को अमेरिकी सेना ने पाकितान के एब्टाबाद में मार गिराया था। तब से लादेन के कई राज़ बाहर आ चुके हैं। साथ ही पाकिस्तान पर उसे पनाह देने का आरोप लगाया जाता है।

जरूर पढ़ें:
– औरंगजेब की मौत का बदला लेने के लिए 50 युवाओं ने छोड़ी विदेशी नौकरी, सेना में होंगे भर्ती
– रोहिंग्या और बांग्लादेशी घुसपैठ के बाद देश में उठ रही मांग- ‘दो बच्चों का सख्त कानून लागू करे सरकार’
– शत्रुघ्न सिन्हा जैसी शक्ल बनी इस शख्स के लिए मुसीबत, लगा रहा अदालतों के चक्कर!

Facebook Comments

LEAVE A REPLY