इस्लामाबाद/भाषा प्रधानमंत्री पद से हटाए जा चुके नवाज शरीफ आज लंदन से स्वदेश लौटे और अपने खिलाफ भ्रष्टाचार के मुकदमों के सिलसिले में अदालत में पेश हुए। पिछले साल २८ जुलाई को पनामा पेपर्स केस में सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद बीते सितंबर महीने में शरीफ के खिलाफ तीन मुकदमे शुरू किए गए थे। २८ जुलाई के अपने आदेश में सुप्रीम कोर्ट ने शरीफ को प्रधानमंत्री पद के अयोग्य घोषित कर दिया था।मामले की सुनवाई के लिए अदालत में पहुंचे शरीफ के साथ उनकी बेटी मरयम और दामाद मुहम्मद सफदर भी थे। मरयम भी शरीफ के साथ लंदन से आई हैं। शरीफ परिवार के खिलाफ भ्रष्टाचार के मामले अल -अजीजिया स्टील मिल्स, फ्लैगशिप इन्वेस्टमेंट लिमिटेड और एवेनफील्ड प्रोपर्टीज से जु़डे हैं। जवाबदेही अदालत के जज मोहम्मद बशीर ने अल-अजीजिया मिल केस में कार्यवाही शुरू की, लेकिन एक अहम गवाह की गैर-मौजूदगी के कारण उन्हें मामले की सुनवाई कल तक के लिए स्थगित करनी प़डी।जज ने शरीफ और उनके परिवार के सदस्यों को जाने की इजाजत दे दी लेकिन यह घोषणा की कि अदालत एवेनफील्ड केस की सुनवाई दोपहर दो बजे करेगी। शरीफ, मरयम और सफदर लंदन के एवेनफील्ड इलाके में संपत्तियों के केस में आरोपी हैं। इससे पहले, लंदन से इस्लामाबाद वापसी पर शरीफ और मरयम का स्वागत हवाई अड्डे पर पाकिस्तान मुस्लिम लीग-नवाज (पीएमएल-एन) के कार्यकर्ताओं ने किया। वे शरीफ की अस्वस्थ पत्नी को देखने लंदन गए थे। शरीफ और उनके बेटे हुसैन एवं हसन सभी तीन मामलों में आरोपी हैं जबकि मरयम और सफदर एवेनफील्ड केस में सह-आरोपी हैं। पिछले साल कार्यवाही शुरू होने के बाद से ही हुसैन एवं हसन अदालत में पेश नहीं हुए हैं। भ्रष्टाचार के मामलों में दोषी पाए जाने पर शरीफ को जेल की सजा हो सकती है। शरीफ के परिवार का आरोप है कि ये मामले राजनीति से प्रेरित हैं।

Facebook Comments

LEAVE A REPLY