jagan mohan reddy
jagan mohan reddy

विशाखापत्तनम। यहां हवाईअड्डे पर गुरुवार को वाईएसआर कांग्रेस के अध्यक्ष और आंध्र प्रदेश में विपक्ष के नेता जगन मोहन रेड्डी पर हमला हुआ। विभिन्न रिपोर्टों के अनुसार, हमलावर ने एक धारदार वस्तु से हमला किया। यह जगन के बाजू में लगा जिससे उन्हें जख्म हो गया। हालांकि वे सुरक्षित हैं। इसके बाद सुरक्षाकर्मियों ने हमलावर को हिरासत में ले लिया। उससे पूछताछ कर इस घटना की वजह जानने की कोशिश की जा रही है।

जानकारी के अनुसार, यह हमला उस वक्त हुआ जब जगन विशाखापत्तनम हवाईअड्डे पर हैदराबाद जाने वाले विमान का इंतजार कर रहे थे। उसी दौरान एक व्यक्ति उनके निकट आ गया। उसने अचानक उन पर नुकीली वस्तु से हमला किया, जिससे उनके बाजू पर जख्म हो गया।

घटना की सूचना मिलते ही केंद्रीय नागरिक उड्डयन मंत्री सुरेश प्रभु ने इसकी जांच के आदेश दे दिए। उन्होंने इस कृत्य को कायराना हमला करार दिया है। उन्होंने कहा है कि जो भी दोषी पाया जाएगा, उसे बख्शा नहीं जाएगा।

हमला करने वाले शख्स का नाम जे श्रीनिवास बताया गया है। वह हवाईअड्डे पर ही एक कैंटीन में नौकरी करता है। सुरक्षा अधिकारियों ने बताया कि उसके पास दो इंच लंबी नुकीली वस्तु पाई गई है। वहीं हमलावर ने यह कहकर सबको चौंका दिया कि वह जगन का बहुत बड़ा प्रशंसक है और सेल्फी लेने के लिए वहां आया था। इस तरह नुकीली वस्तु से हमला करने के बाद कई सवाल खड़े हो रहे हैं। समय रहते उसे सुरक्षाकर्मियों ने पकड़ लिया। घटना की सूचना मिलने के बाद वाईएसआर कांग्रेस के समर्थक विशाखापत्तनम हवाईअड्डे के बाहर इकट्ठे होकर विरोध प्रदर्शन करने लगे।

विभिन्न रिपोर्टों में इस बात का जिक्र किया गया है कि हमलावर जे श्रीनिवास तेदेपा नेता हर्षवर्धन की कैंटीन में काम करता था। इसके बाद वाईएसआर कांग्रेस ने हमले के पीछे तेदेपा की साजिश बताई है। बता दें कि जगन मोहन रेड्डी के पिता वाईएस राजशेखर रेड्डी थे, जो आंध्र प्रदेश के दो बार मुख्यमंत्री रहे। वर्ष 2009 में एक हेलिकॉप्टर दुर्घटना में उनका देहांत हो गया। इसके बाद जगन मोहन ने कांग्रेस से अलग राह अपनाकर वाईएसआर कांग्रेस का गठन किया।

ये भी पढ़िए:
– दुबई में रहने वाले भारतीय की खुली किस्मत, लगी 7 करोड़ की लॉटरी
– देर रात डोवाल ने संभाला मोर्चा, एक आदेश से हो गई वर्मा और अस्थाना की छुट्टी
– पेटीएम मामला: फिरौती के लिए दबाव बढ़ा रही थी सेक्रेटरी, सालाना तनख्वाह 70 लाख!
– बैंक एप के नाम पर हो रहा बड़ा फर्जीवाड़ा, चुटकियों में खाली हो सकता है खाता

LEAVE A REPLY