chandra babu naidu hunger strike
chandra babu naidu hunger strike

अमरावती/दक्षिण भारत। तेदेपा अध्यक्ष और आंध्रप्रदेश के मुख्यमंत्री एन. चंद्रबाबू नायडू ने देश की राजधानी में सोमवार को एक दिवसीय अनशन कर केंद्र सरकार को घेरा। एक टीवी चैनल ने दस्तावेजों के आधार पर दावा किया है कि चंद्रबाबू का यह धरना 10 करोड़ रुपए का पड़ा। इस रिपोर्ट के मुताबिक, राज्य सरकार ने 6 फरवरी को एक आदेश जारी किया था।

धरने के लिए आंध्र प्रदेश सरकार ने दो ट्रेनें भी किराए पर लीं। श्रीकाकुलम और अनंतपुर से धरने के लिए लोगों को लाने हेतु ये इंतजाम किए गए। इस पर राज्य सरकार ने एक करोड़ 12 लाख रुपए खर्च किए। रिपोर्ट में बताया गया है कि मुख्यमंत्री के धरने के लिए आंध्र प्रदेश सरकार ने जो ट्रेनें किराए पर लीं, वे 20 कंपार्टमेंट की थीं।

ट्रेनों को किराए पर लेने के अलावा वीआईपी और आम लोगों के रहने व खानपान पर भी भारी खर्चा हुआ। इसके लिए आंध्र प्रदेश सरकार ने करीब 1,100 कमरे बुक किए। इन इंतजामों के बाद चंद्रबाबू नायडू दिल्ली पहुंचे और उन्होंने सोमवार को सुबह 8 से रात 8 बजे तक अनशन किया। उन्होंने केंद्र से आंध्र प्रदेश को विशेष राज्य का दर्जा देने की मांग की।

दस्तावेजों के आधार पर रिपोर्ट में बताया गया है कि बजट रिलीज आदेश में दूसरे खर्चों के लिए 8 करोड़ रुपए का जिक्र किया गया है। वहीं धरने के लिए 2 करोड़ रुपए बताए गए हैं। इसके लिए संबंधित विभाग ने 1.23 करोड़ रुपए जारी किए हैं। रिपोर्ट में तीन बिलों का भी उल्लेख किया गया है जो 1.12 करोड़, 10 लाख और 1.3 लाख रुपए के हैं।

LEAVE A REPLY