चिकमगलूर/बंगारपेट/दक्षिण भारतप्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी पर अपनी ही पार्टी के वरिष्ठ नेताओं का अपमान करने का आरोप लगाते हुए बुधवार को उन्हें अपरिपक्व और अहंकारी करार दिया और कहा कि उन्हें सिर्फ प्रधानमंत्री की कुर्सी नजर आ रही है। मोदी ने कर्नाटक के चिकमगलूर तथा कोलार में विशाल चुनावी सभाओं को संबोधित करते हुए कहा गांधी को अब प्रधानमंत्री की कुर्सी के अलावा कुछ नजर नहीं आ रहा है। उन्हें आते-जाते, खाते-सोते, उठते-बैठते सिर्फ प्रधानमंत्री की कुर्सी का ख्वाब ही नजर आ रहा है। उनको लगता है कि प्रधानमंत्री की कुर्सी सिर्फ एक ही परिवार के लिए आरक्षित है। इस कुर्सी को पाना उनका पैतृक हक है। उन्होंने कहा, कांग्रेस लगातार चुनाव हार रही है। पिछले आम चुनाव में उसे बमुश्किल ४४ सीटें मिली हैं। कांग्रेस के हाथों से राज्यों की सरकारें लगातार छिन रही हैं लेकिन इस अपरिपक्व ’’नामदार’’ को लगता है कि वर्ष २०१९ में वह प्रधानमंत्री बन जाएंगे। यह उनका अहंकार है। कांग्रेस पार्टी के यह ’’नामदार’’ अपनी ही पार्टी के वरिष्ठ नेताओं का सम्मान नहीं करते हैं। उन्होंने पार्टी में शीर्ष पद संभालने के बाद नयी संस्कृति की शुरुआत की है। यह नयी संस्कृति है, बार-बार झूठ बोलो, जोर-जोर से झूठ बोलो, हर जगह झूठ बोलो, जितना हो सकता है उतनी बार झूठ बोलो।घ्रुद्मय्प् ृय्द्भह्ख् झ्द्य फ्प्य्ध् र्ट्ठय्त्रर्‍ ब्स् ·र्ैंय्ैंख्श्नष्ठफ् प्रधानमंत्री ने कहा कि कांग्रेस स्वभाव से ही अलोकतांत्रिक है। इस पार्टी के चरित्र में ही लोकतंत्र नहीं है। कांग्रेस लोकतंत्र को स्वीकार करने की बजाय वोटिंग मशीन पर ही सवाल उठा रही है। जिस चुनाव आयोग की निष्पक्षता की पूरी दुनिया प्रशंसा कर रही है उसी पर कांग्रेस सवाल उठा रही है। एक के बाद एक चुनाव हारने वाली कांग्रेस चुनाव आयोग को बदनाम कर रही है। मोदी ने कहा कि कांग्रेस का मानना है कि वह जो करे वही सही है। उसके लिए दूसरों का करने का कोई अर्थ नहीं होता है। उन्होंने कांग्रेस पर दलितों के साथ न्याय नहीं करने का भी आरोप लगाया और कहा कि परिवारवाद को ब़ढावा देने वाली इस पार्टी ने परिवार के सदस्यों के नाम पर बेहिसाब नामकरण किए हैं। परिवार के सदस्यों को ’’भारत रत्न’’ से सम्मानित किया लेकिन संविधान बनाने वाले दलितों के मसीहा बाबा साहेब अम्बेडकर को ’’भारत रत्न’’ देने का साहस नहीं किया।उन्होंने कहा कि कांग्रेस दलितों का सम्मान नहीं करती है। कांग्रेस ने न सिर्फ बाबा साहेब अम्बेडकर बल्कि महान दलित नेता बाबू जगजीवन राम के साथ भी अच्छा व्यवहार नहीं किया। यह संस्कृति आज भी जारी है और अब कर्नाटक के वरिष्ठ दलित नेता वीरप्पा मोइली तथा मल्लिकार्जुन खरगे के साथ भी वही व्यवहार किया जा रहा है। कर्नाटक के कई ब़डे नेताओं को भी कांग्रेस ने किनारे किया और अब भी वही प्रयत्न किया जा रहा है। फ्द्बय्ज् ·र्ैंह् द्धय्ैंट्टद्मष्ठ ·र्ैंय् ·र्ैंय्द्ब ·र्ैंद्यत्रर्‍ ब्स् ·र्ैंय्ैंख्श्नष्ठफ् गांधी पर उन्होंने पार्टी में नई संस्कृति को बढावा देने का आरोप लगाया और कहा, नए नामदार ने कांग्रेस को बचाने की नयी तरकीब खोजी है। यह तरकीब है झूठ बोलने की। झूठ बोलो, बार-बार झूठ बोलो, जहां भी बोल सकते हो झूठ बोलो, जितनी बार भी बोल सकते हो झूठ बोलो। लगातार झूठ बोलो उनका यही काम रह गया है। प्रधानमंत्री ने कहा कि कांग्रेस ने सेना प्रमुख के खिलाफ बोला है। वह देश की सीमाओं की रक्षा करने वाली सेना जब पाकिस्तान में घुसकर सर्जिकल स्ट्राइक करती है और दुश्मन के दांत खट्टे करती है उस पर भी सवाल खडा करती है। कांग्रेस समाज को बांटने का काम करती है।उन्होंने कांग्रेस पर परिवारवाद की राजनीति करने का आरोप लगाया और कहा,कांग्रेस की सरकारों ने सिर्फ एक ही परिवार के नाम को बढावा देने का काम किया है। इस परिवार के सदस्यों के नाम पर ४० हजार संपत्तियों और स्मारक आदि के नाम हैं। कांग्रेस सरकार ने सिर्फ इसी परिवार के लिए काम किया है और उसने कभी बाबा साहेब को भारत रत्न देने तक की बात नहीं सोची जबकि मां अपने पिता को, पुत्र अपनी मां को, पत्नी अपने पति को भारत रत्न देने के लिए काम करती रही।मोदी ने कांग्रेस पर भ्रष्टाचार को ब़ढावा देने का भी आरोप लगाया और कहा कि कांग्रेस पार्टी दलितों को आगे नहीं ब़ढने देना चाहती है। किसी दलित के बेटे को ब़डा नहीं होने देना चाहती है क्योंकि इससे उनकी दुकान बंद हो जाएगी।

LEAVE A REPLY