rampal baba
rampal baba

हिसार/वार्ता। सतलोक आश्रम, बरवाला में नवंबर 2014 में हुई घटना में चार महिलाओं और एक बच्चे की मौत के मामले में आश्रम के संचालक रामपाल व समर्थकों के खिलाफ दर्ज दो मामलों में गुरुवार को हिसार अदालत के फैसला सुनाए जाने के मद्देनजर हिसार में धारा 144 लगा दी गई है। प्रशासनिक सूत्रों ने बताया कि कानून व्यवस्था की स्थिति बनाए रखने और रामपाल के समर्थकों की भीड़ का हिसार शहर में प्रवेश रोकने के लिए 48 पुलिस नाके लगाए गए हैं।

हिसार के अलावा आसपास के जिलों से भी अतिरिक्त पुलिस फोर्स बुला ली गई है। किसी भी प्रकार की घटना से निपटने के लिए पुलिस और प्रशासन पूरे अलर्ट पर हैं। हिसार जिला उपायुक्त अशोक कुमार मीणा ने रामपाल केस के फैसले के मद्देनजर डयूटी मजिस्ट्रेट नियुक्त करते हुए टीमों का गठन किया है जिसमें सुरक्षा व कानून व्यवस्था के मद्देनजर पुलिस अधिकारियों को भी शामिल किया गया है।

जिले में कानून व्यवस्था की स्थिति को नियंत्रण में रखने के लिए एसटीएफ के उप पुलिस महानिरीक्षक आईपीएस सतीश बालान व अतिरिक्त उपायुक्त अमरजीत सिंह मान को ओवर ऑल इंचार्ज नियुक्त किया गया है। अदालत के बाद फैसले से पैदा होने वाली किसी भी परिस्थिति से निपटने के लिए पुलिस ने हिसार शहर को अभेद्य किले में बदलने की पूरी तैयारी कर ली है।

रामपाल के समर्थक अदालत के आसपास उत्पात न मचा सकें, इसके लिए अदालत के चारों ओर तीन किमी का मजबूत सुरक्षा घेरा बना दिया गया है। यहां किसी भी बाहरी व्यक्ति को प्रवेश की इजाजत नहीं दी गई है। गुरमीत राम रहीम पर आए फैसले के बाद उसके समर्थकों ने भारी हिंसा की थी। इसलिए रामपाल के मामले में प्रशासन फूंक-फूंककर कदम रख रहा है।

ये भी पढ़िए:
– पायलट बनते ही युवक ने निभाया वादा, गांव के 22 बुजुर्गों को कराया हवाई सफर
– बांग्लादेश: 2004 के ग्रेनेड कांड में दो पूर्व मंत्रियों समेत 19 लोगों को सजा-ए-मौत
– खूबसूरत लड़कियों के नाम से फेसबुक आईडी बनाकर पाक की आईएसआई ऐसे करवा रही जासूसी
– गरीबी में दिन काट रहे मजदूर की खुली किस्मत, खदान से मिला बेशकीमती हीरा

LEAVE A REPLY