चेन्नई। अखिल भारतीय अन्ना द्रवि़ड मुनेत्र कषगम(अन्नाद्रमुक) से दरकिनार किए जा चुके टीटीवी दिनाकरण का समर्थन करने वाले विधायक तंग तमिलसेल्वन ने बुधवार को पत्रकारों से कहा कि वह स्वयं अपने १८ साथियों के साथ गुरुवार को एक बार फिर से राज्यपाल से मुलाकात करेंगे और उन्हें मुख्यमंत्री पलानीस्वामी को विधानसभा मंें विश्वासमत साबित करने का निर्देश देने का अनुरोध करेंगे जब उनसे पूछा गया कि अगर राज्यपाल मुख्यमंत्री को विश्वासमत साबित करने का निर्देश देने से इंकार कर देते हैं तो उनका अगला कदम क्या होगा तो उन्होंने कहा कि इसके बाद क्या कदम उठाया जाएगा इसके बारे में वह अन्य विधायकों के साथ बैठक करने के बाद कहेंगे।तमिलसेल्वन ने कहा कि दिनाकरण का समर्थन करने वाले किसी भी विधायक ने उनका साथ नहीं छो़डा है और वह सभी दिनाकरण के साथ है। ज्ञातव्य है कि मंगलवार को मुख्यमंत्री पलानीस्वामी और उप मुख्यमंत्री पन्नीरसेल्वम की अध्यक्षता में बुलाई गई पार्टी के महापरिषद और पार्टी की कार्यकारिणी समिति की बैठक में १११ विधायक शामिल हुए थे। इस बैठक के बाद यह कहा गया था कि इसमें दिनाकरण का समर्थन करने वाले कुछ विधायकों ने भी हिस्सा लिया है। इसके साथ ही इस प्रकार की खबरें भी सामने आई थी कि दिनाकरण का समर्थन कर रहे कुछ विधायक अब पलानीस्वामी के समर्थन में आ गए हैं। मंगलवार को बुलाई गई बैठक में सर्वसम्मति से एक प्रस्ताव पारित किया गया जिसके अनुसार सभी विधायक और मंत्री मुख्यमंत्री ईके पलानीस्वामी के निर्णय को स्वीकार करेंगे।थंग तमिलसेल्वन ने कहा कि दिनाकरण के समर्थन में कुछ और विधायक आने पर अपनी सहमति दे चुके हैं। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री पलानीस्वामी और उप मुख्यमंत्री ओ. पन्नीरसेल्वम को अपने पद से इस्तीफा देना ही होगा। उन्होंने कहा कि विधानसभा अध्यक्ष पी धनपाल की ओर से उन्हें दूसरी बार भेजे गए नोटिस का जवाब मंगलवार को सभी १९ विधायकों द्वारा सौंप दिया गया। यह नोटिस कुछ और नहीं बल्कि विधायकों के अंदर भय पैदा करने के लिए सत्तारुढ खेमे की साजिश थी। थंग तमिलसेल्वन ने कहा कि जल्द ही उनके खेमे के नेता निर्वाचन आयोग के अधिकारियों से मुलाकात करने के लिए नई दिल्ली जाएंगे।

LEAVE A REPLY