gurjar agitation
gurjar agitation

सवाईमाधोपुर/दक्षिण भारत। राजस्थान में गुर्जर समुदाय ने आरक्षण के लिए एक बार फिर आंदोलन शुरू कर दिया। आरक्षण संघर्ष समिति के संयोजक कर्नल किरोड़ी सिंह बैंसला के नेतृत्च में हजारों की तादाद में आंदोलनकारियों ने सवाईमाधोपुर जिले में मलारना व नीमोदा रेलवे स्टेशन के बीच दिल्ली-मुंबई रेल मार्ग पर डेरा जमा लिया। लोगों ने यहीं खाना खाया और 5 प्रतिशत आरक्षण की मांग के लिए नारेबाजी की। पटरियों पर पड़ाव डालने से रेलमार्ग अवरुद्ध हो गया। ऐहतियात के तौर पर रेलवे ने कई ट्रेनों के मार्ग बदल दिए हैं।

वहीं गुर्जर नेता बैंसला ने इस बार के आंदोलन को आर-पार की लड़ाई करार देते हुए कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के लिए गुर्जर समुदाय की यह मांग पूरी करना कोई बहुत बड़ा काम नहीं है। उन्होंने केंद्र और राज्य सरकार से गुर्जर समुदाय की मांग पूरी करने की बात कही है। सवाईमाधोपुर के मलारना स्टेशन के पास रेलवे पटरियों पर तंबू लगाकर बैठे गुर्जर समुदाय के लोगों ने कहा कि इस बार आरक्षण की मांग पूरी होने तक आंदोलन जारी रहेगा। सर्द मौसम के मद्देनजर लोगों ने पटरियों पर ही कई जगह अलाव जलाए और आरक्षण के लिए डटे रहने का आह्वान किया।

gurjar agitation
gurjar agitation

कर्नल किरोड़ी सिंह बैंसला ने कहा कि समुदाय के लिए उसी तरह पांच प्रतिशत आरक्षण चाहते हैं, जिस तरह केंद्र सरकार ने आर्थिक रूप से पिछड़े लोगों के लिए 10 प्रतिशत आरक्षण का प्रावधान किया। सरकार की ओर से इस मांग पर कोई प्रतिक्रिया नहीं मिल रही है। कोई बातचीत करने भी नहीं आया, इसलिए हमें मजबूरन यह कदम उठाना पड़ा है।

उधर, राज्य सरकार ने आंदोलनकारियों से वार्ता करने के लिए तीन मंत्रियों की समिति बनाई। इसमें विश्वेंद्र सिंह, भंवर लाल मेघवाल और रघु शर्मा शामिल किए गए हैं। इसके अलावा आईएएस अधिकारी नीरज के. पवन को गुर्जर नेता बैंसला से बातचीत के लिए भेजा गया। कानून व्यवस्था के लिए प्रशासन ने आरएसी की 17 कंपनियां तैनात की हैं।

रेलवे ने जारी किए हेल्पलाइन नंबर
अब तक की जानकारी के अनुसार, कोटा डिविजन की सात ट्रेनों के मार्ग बदले गए हैं। एक ट्रेन रद्द की गई है। रेलवे ने हेल्पलाइन नंबर- 0744-2467153 और 0744-2467149 जारी किए हैं।

LEAVE A REPLY