ram v sutar
ram v sutar

नई दिल्ली। देश के पहले गृह मंत्री सरदार पटेल की प्रतिमा ‘स्टैच्यू आॅफ यूनिटी’ खूब चर्चा में है। पटेल की 143वीं जयंती पर इसका उद्घाटन किया गया। यह प्रतिमा जितनी ऊंची है, उसकी वजह से यह विश्व के इतिहास में अपनी अहमियत रखेगी। इसके शिल्पकार राम वी. सुतार ने जिस परिकल्पना के साथ इसे साकार होते देखा, उसकी एक झलक पाकर लोग यही कहेंगे- अद्भुत!

राम वी. सुतार की देखरेख में ही पटेल साहब की विश्व की सबसे ऊंची प्रतिमा बनी है। उनकी देखरेख में अब तक कई प्रतिमाओं का निर्माण हो चुका है। अब वे शिवाजी महाराज की प्रतिमा के निर्माण से जुड़े हैं, जो महाराष्ट्र में बनाई जाएगी। इसके अलावा उन्होंने विदेशों में भी कई प्रतिमाओं के निर्माण में अहम भूमिका निभाई है।

प्रतिमा निर्माण के क्षेत्र में योगदान को देखते हुए राम वी. सुतार को 2016 में पद्म भूषण पुरस्कार से सम्मानित किया जा चुका है। इसके अलावा उन्हें 1999 में पद्मश्री से सम्मानित किया गया था। उन्हें देश-विदेश के कई सम्मान प्राप्त हो चुके हैं। उन्हें बॉम्बे आर्ट सोसाइटी ने लाइफ टाइम पुरस्कार से सम्मानित किया है।

राम वी. सुतार का जन्म 19 फरवरी, 1925 को महाराष्ट्र के गोंदुर में हुआ था। करीब 93 साल के राम वी. सुतार अब तक महात्मा गांधी, जवाहर लाल नेहरू सहित कई महापुरुषों और धार्मिक महत्व की प्रतिमाओं का निर्माण करवा चुके हैं। एक रिपोर्ट के अनुसार, वे 350 से ज्यादा प्रतिमाओं के निर्माण से जुड़े रहे हैं। उन्होंने अजंता-एलोरा की गुफाओं की प्रतिमाओं के संरक्षण में अहम भूमिका निभाई थी।

राम वी. सुतार के बेटे अनिल सुतार भी प्रतिमा निर्माण के क्षेत्र से जुड़े हैं। राम वी. सुतार को अपने कार्य की प्रेरणा श्रीराम कृष्णा जोशी से मिली थी, जिन्होंने इस विषय का अध्ययन करने के लिए प्रोत्साहित किया। इसके बाद राम वी. सुतार ने मुंबई के जेजे स्कूल आॅफ आर्ट में दाखिला लिया। उन्होंने वर्ष 1953 में कक्षा में प्रथम स्थान के साथ यह पाठ्यक्रम पूरा किया। उन्होंने मेयो गोल्ड मेडल भी जीता। ‘स्टैच्यू आॅफ यूनिटी’ के साथ इसके शिल्पकार का नाम भी हमेशा चर्चा में रहेगा।

ये भी पढ़िए:
– इन खूबियों के साथ हिंद की शान बनेगी सरदार पटेल की प्रतिमा
– भ्रष्टाचार मामले में बढ़ी खालिदा ज़िया की मुश्किल, पांच साल की सजा 10 साल में तब्दील
– पनामा पेपर आरोप के बाद शिवराज के बेटे ने राहुल पर किया मानहानि का मुकदमा
– जहरीली होती जा रही भारत की हवा, 1 लाख से ज्यादा बच्चे तोड़ चुके दम

LEAVE A REPLY