नई दिल्ली। भारतीय विशिष्ठ पहचान प्राधिकरण (यूआईडीएआई) ने स्पष्ट किया कि आधार के लिए पंजीयन निशुल्क है लेकिन इसके बाद प्रत्येक अपडेट के लिए २५ रुपए का शुल्क और १८ प्रतिशत वस्तु एवं सेवा कर (जीएसटी) का भुगतान करना होगा। यूआईडीएआई ने इस संबंध में ट्विटर पर पूछे गए प्रश्न के उत्तर के कहा कि १२ अंकों वाला आधार नंबर के लिए पंजीयन निशुल्क है लेकिन इसके बाद मोबाइल नंबर और बॉयोमैटिक अपेडट के लिए २५ रुपए का शुल्क और १८ प्रतिशत जीएसटी का भुगतान करना पडेगा। इस बीच यूआईडीएआई ने जनता को आगाह किया कि वह प्लास्टिक वाले या लेमिनेटेड आधार स्मार्ट कार्ड के चक्कर में नहीं प़डे क्योंकि इनकी अनाधिकृत छपाई से क्यूआर कोड काम करना बंद कर सकता है या उनकी सहमति के बिना ही व्यक्तिगत जानकारी सार्वजनिक हो सकती है। प्राधिकरण का कहना है कि आधार पत्र या इसका कटा हुआ भाग, सामान्य कागज पर आधार का इंटरनेट से निकाला गया संस्करण या एम-आधार पूरी तरह वैध है।

LEAVE A REPLY