युवक नवसृजन के प्रतीक : मुनिश्री धर्मरुचि

0
270

चेन्नई/दक्षिण भारतयहां साहुकारपेट स्थित तेरापंथ सभा भवन में मुनिश्री धर्मरुचिजी व श्री जंबुकुमारजी के सान्निध्य में आचार्यश्री महाश्रमणजी के ४५वें दीक्षा दिवस पर तेरापंथ युवक परिषद् द्वारा ‘युवा दिवस‘ का आयोजन किया गया। इस अवसर पर धर्मरुचिजी ने दीक्षा को दूसरा जन्म बताते हुए कहा कि यह महान भाग्योदय से मिलता है। उन्होंने कहा कि सृजन की दिशा है दीक्षा, यह राजमार्ग हैं, मोक्ष की ओर प्रस्थान का चरणन्यास है यानी इस पर चलने वाला धन्य हो जाता है। मुनिश्री ने कहा कि युवक नवसृजन के प्रतीक हैं, वे उत्साही और आशावादी होते हैं जो सरल को छो़ड कठिन, सम्भव को छो़ड असम्भव कार्य भी आसानी से परिसम्पन्न कर लेते हैं। मुनिश्री ने कहा कि बालक मोहन से मुनिमुदित, महाश्रमण तक की गणाधिपति आचार्यश्री तुलसीजी और आचार्यश्री महाप्रज्ञजी द्वारा अनेक कसौटियों पर खरा उतर कर युवाचार्य महाश्रमणजी और आचार्यश्री महाश्रमणजी तक पहुंचे। कार्यक्रम का संचालन करते हुए जम्बुकुमार जी ने कहा कि आचार्यश्री तुलसी एक विलक्षण महापुरुष थे, उन्होंने आचार्यश्री महाश्रमण को शिक्षा के साथ संघ संचालन की हर कला से पारंगत बनाया। मुनिश्री अनेकांतजी ने गीतिका के माध्यम से आचार्यश्री की अभिवन्दना की। वक्ता गौतमचन्द सेठिया ने कहा कि युवकत्व के जीवन में श्रम साध्य व ध्येय के प्रति एकाग्रता होनी चाहिए। काठमाण्डू के ललित मरोठी, अभातेयुप के राष्ट्रीय सहमंत्री रमेश डागा, आचार्यश्री महाश्रमण चातुर्मास व्यवस्था समिति के अध्यक्ष धरमचन्द लुंक़ड, सभा के मंत्री विमल चिप्प़ड, तेयुप के अध्यक्ष मुकेश मुथा, महिला मंडल की उपाध्यक्ष पुष्पा हिरण, विजया बाई सेठिया, युवा दिवस के स्थानीय संयोजक दीपक श्रीश्रीमाल, गौतमचन्द सुराणा व ॠषि श्यामसुखा ने अपने भावों, गीतिकाओं के माध्यम से अभिव्यक्ति प्रस्तुति की। तेयुप के मंत्री गजेंद्र खांटे़ड ने सभी का आभार ज्ञापित किया।द्भरुप्य् ्यख्रप्फ् द्यस्ध्र्‍ ’’युवा दिवस’’ के अवसर पर प्रात: के सत्र में स्थानीय तेरापंथ सभा भवन से मुनिश्री जंबुकुमारजी से मंगल पाठ श्रवण कर अभातेयुप के राष्ट्रीय सहमंत्री रमेश डागा ने जैन ध्वज लहरा कर ‘युवा दिवस रैली‘ को रवाना किया। इस अवसर पर युवा दिवस के तमिलनाडु प्रभारी मुकेश नवलखा, तेयुप के अध्यक्ष मुकेश मुथा, राष्ट्रीय प्रभारी भरत मरलेचा, अभातेयुप सामायिक सहप्रभारी विकास सेठिया, अभातेयुप समिति सदस्यों, तेयुप चेन्नई पदाधिकारी, सभा, तेयुप, किशोर मंडल ज्ञानशाला के सदस्य उपस्थित थे। रैली में नशामुक्ति, सद्भावना व नैतिकता इत्यादि सुवाक्यों की तख्तियाँ लेकर युवाओं द्वारा जनता को अपनी ओर आकर्षित किया गया। त्र्यद्बध् ख्र्‍त्र ·र्ैंय् ध्ह्·र्ैंय्झ्श्चह्लय् आचार्यश्री महाश्रमणजी के आगामी चेन्नई चातुर्मास और तमिलनाडु प्रवास पर अहिंसा यात्रा और तेरापंथ धर्मसंघ के अवदानों पर मुनिश्री जंबुकुमारजी के भावों की अभिव्यक्ति ‘तमिल वैलकम सोंग‘ का तमिल भाषा में अनुवादित गीत चातुर्मास व्यवस्था समिति के अध्यक्ष धरमचन्द, तेयुप के अध्यक्ष मुकेश मुथा ने लोकार्पण किया। इस मौके पर मुनिश्री ने कहा कि यह संगीत तमिल भाषियों को अपनी भाषा में आचार्य प्रवर को जानने, समझने का मौका देगा।

LEAVE A REPLY