nidhivan
nidhivan

वृंदावन। हमारे देश के कई तीर्थों से भगवान कृष्ण की कथाएं जुड़ी हैं। ऐसा ही एक दिव्य धाम है निधिवन। श्रद्धालुओं की मान्यता है कि यहां हर रात को भगवान कृष्ण और राधा आते हैं। इसके लिए हर रोज तैयारियां की जाती हैं। जिस शख्स ने इसे छुपकर देखना चाहा, वह पागल हो गया। इस स्थान को अत्यंत रहस्यमय माना जाता है।

वृंदावन में स्थित निधिवन के द्वार शाम की आरती के बाद बंद कर दिए जाते हैं। कहते हैं कि जब दूसरे दिन द्वार खोले जाते हैं तो ऐसे कई प्रमाण मिलते हैं जिनके आधार पर यह कहा जाता है कि श्रीकृष्ण और राधाजी यहां आए थे।

इस मान्यता की जांच करने के लिए एक बार कोई शख्स शाम को ही छुपकर बैठ गया था। दूसरे दिन द्वार खुले तो वह बेहोश पाया गया। उसका इलाज कराने पर होश तो आ गया लेकिन तब तक उसका दिमागी संतुलन बिगड़ चुका था। कुछ ऐसी ही कहानी एक पागल बाबा की भी है। उन्होंने रात को छुपकर देखना चाहा कि निधिवन में रासलीला होती है या नहीं!

nidhivan
nidhivan

वे निधिवन में छुपकर बैठ गए। दूसरे दिन उनका भी दिमागी संतुलन ठीक नहीं रहा। उनकी समाधि यहीं बनी हुई है। निधिवन में स्थित ‘रंग महल’ के प्रति श्रद्धालुओं का विशेष आकर्षण है। यहां हर शाम चंदन का पलंग सजाया जाता है। निकट ही शृंगार में प्रयुक्त होने वाली सामग्री रखी जाती है। दातुन और पान भी रखे जाते हैं।

दूसरे दिन द्वार खोलने पर इन सभी चीजों का इस्तेमाल किया हुआ मिलता है। श्रद्धालुओं की दृढ़ आस्था है कि यहां के कण-कण में राधा-कृष्ण समाए हुए हैं। वे हर रात को यहां आते हैं, इसलिए लोग इस धाम को अत्यंत पवित्र एवं चमत्कारी मानते हैं। कृष्ण की लीला की तरह इस धाम की महिमा भी अपरंपार है।

ये भी पढ़िए:
जैन मुनि तरुण सागरजी के 5 कड़वे प्रवचन जो दिखाते हैं जीवन की नई राह
इस गांव के रक्षक हैं शनिदेव, यहां नहीं लगाते घरों पर ताले
यहां कानून से ज्यादा देवता से खौफ खाते हैं अपराधी
चाहते हैं खुद का घर तो जरूर करें इन गणपति के दर्शन, वरदान से पूरे होंगे सब काम

LEAVE A REPLY