sadhvi pragya
sadhvi pragya

मुंबई। राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) ने 2008 के मालेगांव धमाका मामले में कर्नल पुरोहित और साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर पर आरोप तय किए हैं। इस मामले में एजेंसी की ओर से सात लोगों पर आतंकी साजिश और हत्या के आरोप तय किए गए हैं।

अब इस मामले की अगली सुनवाई 2 नवंबर को है। बता दें कि सोमवार को ही बंबई उच्च न्यायालय ने इस मामले में कर्नल पुरोहित और अन्य लोगों के खिलाफ आरोप तय करने की प्रक्रिया पर रोक लगाने से इनकार कर दिया था। अब इन पर आरोप तय हुए हैं।

इस मामले में सभी आरोपियों पर आईपीसी की गैर-कानूनी गतिविधियां रोकथाम कानून (यूएपीए) और आईपीसी की धाराओं के तहत मुकदमा चलेगा। अपने फैसले में न्यायाधीश वीएस पडलकर ने कहा कि इन सभी आरोपियों पर अभिनव भारत संस्था बनाने और 2008 में मालेगांव धमाका करने का आरोप लगाया जाता है।

col purohit
col purohit

29 सितंबर, 2008 में महाराष्ट्र के मालेगांव में एक बाइक में बम धमाका हुआ था। उसमें छह लोग मारे गए थे। वहीं घायलों की तादाद सौ से ज्यादा थी। मालेगांव मामले में साध्वी प्रज्ञा ठाकुर भी आरोपी हैं। उन्हें 5 लाख के निजी मुचलके पर जमानत मिल चुकी है। इस मामले की जांच के दौरान यह भी चर्चा रही कि इसमें कथित रूप से एक संगठन की भूमिका रही।

एनआईए का कहना है कि कर्नल पुरोहित इसकी गुप्त बैठकों में भाग लेकर विस्फोटक जुटाने में मदद कर रहा था। हालांकि कर्नल पुरोहित ने इन आरोपों को नकारा और खुद को राजनीति का शिकार बताया।

साध्वी प्रज्ञा भी इसे साजिश करार दे चुकी हैं। उन्होंने कहा कि पहले एनआईए ने मुझे क्लीन चिट दे दी थी। अब मेरे खिलाफ आरोप तय किए गए हैं। उन्होंने इसे कांग्रेस की साजिश बताया। साध्वी प्रज्ञा ने कहा, मुझे पूरा भरोसा है कि मैं निर्दोष साबित होऊंगी, क्योंकि सच्चाई की हमेशा जीत होती है।

ये भी पढ़िए:
– पाकिस्तान को सेना का करारा जवाब, एलओसी के करीब मुख्यालय पर हमला, आतंकी अड्डे तबाह
– खाते में अरबों रुपए देखकर कांपने लगा पाकिस्तानी रिक्शा चालक, बीवी हुई बीमार
– बांग्लादेश की पूर्व प्रधानमंत्री खालिदा ज़िया भ्रष्टाचार की दोषी, 7 साल कैद, 10 लाख जुर्माना

LEAVE A REPLY