श्रवणबेलगोला । केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह रविवार को जैन समुदाय के धार्मिक महाकुंभ महामस्तकाभिषेक में हिस्सा लेने यहां पहुंचेंगे। आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि विंध्यगिरि पर्वत शिखर पर स्थित भगवान बाहुबली की ५८.८ फीट ऊंची प्रतिमा के अभिषेक का गवाह बनने के लिए वह सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) के विशेष हेलीकॉप्टर से श्रवणबेलगोला पहुंचेंगे। महामस्तकाभिषेक का आयोजन रविवार को ही समाप्त होने वाला है। इसमें भाग लेने के लिए अब भी भारी संख्या में जैन धर्मावलंबियों का यहां पहुंचना जारी है। इनमें कर्नाटक के साथ ही प़डोसी राज्यों की भी कई विशिष्ट हस्तियां शामिल हैं। इन श्रद्धालुओं ने विंध्यगिरि पहा़डी पर च़ढकर अपने इष्टदेवता का अभिषेक करने के लिए लंबी कतारें लगा रखी हैं। इस कार्यक्रम के विशेष अधिकारी बीएन वरप्रसाद रेड्डी ने बताया कि मुख्य धार्मिक आयोजन समाप्त होने के बाद ही आम श्रद्धालुओं को विंध्यगिरि के शिखर तक जाने की अनुमति दी जाएगी। उन्होंने शनिवार को यहां पत्रकारों से बातचीत में कहा कि इस विशाल आयोजन में शामिल होने के लिए यहां पहुंचे श्रद्धालुओं और सामान्य पर्यटकों की सुविधाओं के मद्देनजर राज्य सरकार द्वारा बनाए गए १२ अस्थायी टाउनशिप पूरी तरह से भर चुके हैं। इसे देखते हुए जिला प्रशासन को अब तक पहुंच रहे श्रद्धालुओं के लिए अतिरिक्त सुविधाओं की व्यवस्था की है। पिछले दो दिनों में इनके लिए ६०० अतिरिक्त बिस्तरों की व्यवस्था की गई है। उल्लेखनीय है कि राज्य सरकार द्वारा महामस्तकाभिषेेक के लिए जारी किए गए करो़डों रुपए के फंड से श्रवणबेलगोला में २६ हजार लोगों को ठहराने के लिए १२ अस्थायी टाउनशिप बनाए गए हैं। उम्मीद जताई जा रही है कि इनकी पूरी क्षमता के अनुसार श्रद्धालुओं को ठहराए जाने के बाद आगामी दो दिनों में यहां पहुंचने वालों की भारी भी़ड के लिए काफी अतिरिक्त व्यवस्थाओं की जरूरत होगी। उधर, मुख्य कार्यक्रम में व्यवस्था बनाए रखने के लिए पुलिस ने पूरे शहर में वाहनों के यातायात पर रोक लगा रखी है। शुक्रवार को मैसूरु राजपरिवार के उत्तराधिकारी यदुवीर कृष्णदत्त चामराज वाडेयार ने महामस्तकाभिषेक में हिस्सा लिया। विंध्यगिरि पर्वत के शिखर पर पहुंचकर उन्होंने भगवान बाहुबलि की प्रतिमा का जलाभिषेक किया।

Facebook Comments

LEAVE A REPLY