जोधपुर। बहुचर्चित कांकाणी हिरण शिकार मामले में मंगलवार को भी जोधपुर के सीजेएम ग्रामीण कोर्ट में अंतिम बहस शुरू नहीं हो पाई। सीजेएम कोर्ट में मंगलवार को अंतिम बहस शुरू होनी थी, लेकिन एक बार फिर कोर्ट ने अंतिम बहस को टालते हुए सुनवाई १३ सितम्बर को तय कर दी।जानकारी के अनुसार दो प्रार्थना पत्रों के लंबित चलने से मंगलवार को भी अंतिम बहस नहीं हो पाई है। इन प्रार्थना पत्रों के तहत हिरणों की पोस्टमार्टम रिपोर्ट सहित कई दस्तावेज शामिल हैं। हिरणों के पोस्टमार्टम करने वाले डॉ. नेपालिया की रिपोर्ट में हिरणों की मौत प्रकृतिक बताई गई थी।अदालत में सरकारी अधिवक्ता भवानीसिंह भाटी, सलमान खान के अधिवक्ता हस्तीमल सारस्वत, सैफ अली खान व सोनाली बेन्द्रे के अधिवक्ता के.के. व्यास व तब्बू के अधिवक्ता मनीष सिसोदिया मौजूद रहे लेकिन सुनवाई आगे नही ब़ढ पाई।फ्द्नर्‍ ृय्द्यह्यझ्द्भह्र ·र्ष्ठैं ृ्यथ्र्प्टैंय् द्यब्ष्ठ द्बह्रज्रूख्रमंगलवार को बॉलीवुड अभिनेत्रियां नीलम, सोनाली व तब्बू के अधिवक्ता भी कोर्ट में मौजूद रहे। गौरतलब है कि वर्ष १९९८ में जोधपुर में अपनी फिल्म ’’हम साथ-साथ हैं की शूटिंग के दौरान बॉलीवुड अभिनेता सलमान खान, सैफ अली खान, अभिनेत्री नीलम, तब्बू, सोनाली बेन्द्रे व स्थानीय निवासी दुष्यन्त सिंह पर १ व २ अक्टूबर १९९८ की मध्य रात्रि को लूणी के कांकाणी गांव की सरहद पर हिरणों के शिकार करने का आरोप है, जिसमें लूणी थाने में मुकदमा दर्ज कर सीजेएम ग्रामीण कोर्ट में ट्रायल चल रहा है।

LEAVE A REPLY