बेंगलूरु/दक्षिण भारत शहर के बन्नरघट्टा रोड के कगलीपुरा स्थित आशापुरा माता भंडारी जैन ट्रस्ट के तत्वावधान में चल रहे दो दिवसीय दक्षिण भारतीय भंडारी भाईपा सम्मेलन के दूसरे दिन रविवार को सुबह ५.४५ बजे बन्नरघट्टा रोड स्थित मीनाक्षी मंदिर से माताजी धाम तक पैदल यात्रा संघ निकाला गया। सूर्यप्रकाश चेतनकुमार दीपककुमार भंडारी परिवार द्वारा प्रायोजित इस पैदल यात्रा संघ में माता के भक्त जयकारे लगाते हुए हाथों में ध्वजा लिए पूरे उत्साह से आशापुरा धाम की ओर ब़ढ रहे थे। भंडारी ट्रस्ट, युवा, महिला व बालिका मंडल के सदस्य इस पैदल यात्रा की व्यवस्थाएं संभालें हुए थे। जैसे जैसे यात्रा संघ मंदिर के नजदीक पहुंच रहा था, वैसे वैसे भक्तों के उत्साह में ब़ढोत्तरी हो रही थी। पूरा कगलीपुरा क्षेत्र माता के जयकारों से गुुंजायमान हो रहा था। तीर्थ यात्रा लाभार्थी परिवार ने सभी संघ यात्रियों के पाद प्रक्षालन किए तथा प्रभावना भेंट की। ट्रस्ट मंडल की ओर से लाभार्थी परिवार का सम्मान किया गया। दक्षिण भारतीय भंडारी भाईपा सम्मेलन के आखिरी दिन दोपहर में अहमदाबाद से आए युवा वक्ता साजन शाह द्वारा परिवार व युवाओं हेतु ‘आज या कभी नहीं’’ विषयक प्रेरणादायक कार्यक्रम प्रस्तुत किया गया जिसमें उन्होंने उपस्थित जनों को सफल जीवन जीने की कला तथा पारिवारिक रिश्तों के महत्त्व के बारे में सारगर्भित व्याख्यान दिया। दोपहर ३.३० बजे से आबूरोड से आईं भावना आचार्य द्वारा कुलदेवी आशापुरा मातृवंदना कार्यक्रम के दौरान मां की ममता, महत्त्व का बखान करते हुए माता के विभिन्न रुपों के बारे में बहुत ही भावुक प्रस्तुति दी गई। रात्रि में डांडिया व गरबा रास का आयोजन किया गया। ट्रस्ट के अध्यक्ष धीरज भंडारी व मंत्री भैरुमल भंडारी ने सम्मेलन में शामिल सभी भंडारियों का स्वागत व धन्यवाद दिया। झ्य्द्यफ् द्नैंठ्ठणय्द्यर्‍ ·र्ैंह् ्यद्बध्र्‍ द्नैंठ्ठणय्द्यर्‍ ·रु ध् ्यप्रय्द्यह्द्ब्यह्लय् र्झ्य्यथ्आशापुरा माता भंडारी जैन ट्रस्ट के अध्यक्ष धीरज भंडारी ने पारसमल भंडारी को उनकी विशिष्ट मानवसेवा व तीर्थ धाम विकास में अभूतपूर्व सहयोग-योगदान के लिए ‘भंडारी कुल शिरोमणि’’ उपाधि से सम्मानित करने की घोषणा की। ट्रस्ट मंडल के सभी पदाधिकारियों ने शनिवार को भक्ति कार्यक्रम के दौरान सामूहिक रुप से पारसमल भंडारी को भंडारी कुल शिरोमणि पदवी का अभिनंदन पत्र भेंट किया तथा शॉल, साफा व माला से सम्मान किया।

LEAVE A REPLY