नई दिल्ली/भाषाभारत बंद के दौरान हिंसक प्रदर्शनों के एक दिन बाद भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने मंगलवार को कहा कि हताश और खारिज किये गए राजनीतिक दलों के एक छोटे वर्ग’’ ने जनता को परेशान किया है और उन्हें दलित बहनों और भाइयों से माफी मांगनी चाहिए। शाह ने ट्वीट कर दलित समुदाय तक अपना संदेश पहुंचाने का प्रयास किया और कांग्रेस पर दलित विचारक भीमराव अंबेडकर के साथ अनुचित रवैया अपनाने का आरोप भी लगाया। भाजपा अध्यक्ष ने कुछ निहित स्वार्थ वाले संगठनों पर दलितों के आरक्षण के विषय पर हंगामा ख़डा करने का आरोप लगाते हुए कहा कि हर चुनाव से पहले ऐसा किया जाता है और सरकार अनुसूचित जाति और अनुसूचित जाति के लोगों के अधिकारों की रक्षा के लिए हरसंभव प्रयास करेगी। उल्लेखनीय है कि अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजाति अत्याचार निवारण कानून के संबंध में उच्चतम न्यायालय के एक आदेश का विरोध में देश के कई इलाकों में भारत बंद के दौरान हिंसा की घटनाएं सामने आई । शाह ने कहा कि एससी-एसटी अत्याचार कानून पर उच्चतम न्यायालय के फैसले के बाद से ही केंद्र सरकार ने तत्परता और सोच-समझ के साथ काम किया और दलितों के अधिकारों के संरक्षण के लिए एक प्रभावी पुनर्विचार याचिका दाखिल की। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अनुसूचित जाति के सांसदों से मिलकर उन्हें भरोसा दिलाया था कि सरकार हमारे दलित बहनों और भाइयों की भलाई और अधिकारों के लिए हरसंभव प्रयास कर रही है। शाह ने कहा कि अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजाति (अत्याचार रोकथाम) संशोधन विधेयक, २०१५ के माध्यम से राजग सरकार ने वास्तव में कानून के प्रावधानों को मजबूत बनाया था और यह दलित वर्गों के कल्याण की भाजपा की प्रतिबद्धता के अनुरूप था। उन्होंने ट्वीट किया, हताश और ठुकराये गए राजनीतिक दलों के एक छोटे से वर्ग के राजनीति से प्रेरित प्रदर्शनों की वजह से करो़डों बेगुनाह लोग परेशान हुए। इन पार्टियों को अपने कुकृत्यों के लिए हमारे दलित बहनों और भाइयों से माफी मांगनी चाहिए। शाह ने कहा, भाजपा का रुख साफ है जिसे मैं एक बार फिर से दोहरा रहा हूं। हम बाबासाहब द्वारा दिये गए संविधान पर और इसमें एससी-एसटी समुदायों को दिये गए अधिकारों पर पूरा भरोसा रखते हैं। भाजपा हर समय और हरसंभव तरीकों से दलित समुदाय के साथ कंधे से कंधा मिलाकर ख़डी है। डीएनए’’ संबंधी कांग्रेस की टिप्पणी पर पलटवार करते हुए उन्होंने कहा कि अंबेडकर के सपनों को पूरा करने की मोदी सरकार की अडिग प्रतिबद्धताएं हैं और उसके सारे प्रयासों का उद्देश्य दलितों के जीवन में बदलाव लाना है। भाजपा अध्यक्ष ने कहा कि कांग्रेस ने लोकसभा चुनावों में दो बार अंबेडकर को हरवाया और इसके पीछे हल्के बहाने पेश किये कि संसद के केंद्रीय कक्ष में उनका चित्र नहीं लग पाए। उन्होंने कहा कि कांग्रेस ने अंबेडकर को भारत रत्न नहीं मिलने दिया। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने एक ट्वीट में कहा था कि भाजपा और संघ का डीएनए दलित विरोधी है। शाह ने कहा, हम अपने दलित बहनों और भाइयों को नये भारत का निर्माता बनाने के लिए प्रयास करते रहेंगे। हम उनकी आकांक्षाओं और सपनों को पूरा करेंगे। जय भीम। जय हिंद।

LEAVE A REPLY