दिल्ली/भाषाकर्नाटक में बीएस येड्डीयुरप्पा को मुख्यमंत्री की पद की शपथ दिलाए जाने को हास्यास्पद करार देते हुए कांग्रेस ने गुरुवार को कहा कि बहुमत नहीं होने के बावजूद भाजपा की सरकार गठन की अतार्किक जिद ने संविधान का माखौल उ़डाया है। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने ’’संविधान का मजाक’’ बनाने के लिए भाजपा पर जमकर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि एक तरफ भाजपा ’’खोखली जीत’’ का जश्न मनाएगी, दूसरी तरफ भारत ’’लोकतंत्र की हार’’ का शोक मनाएगा। पार्टी के मुख्य प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने कर्नाटक के घटनाक्रमों को देश के लोकतंत्र पर काला धब्बा करार देते हुए कहा कि इसे मिटाया जाएगा। राहुल ने ट्वीट किया, कर्नाटक में जरूरी आंक़डा नहीं होने के बावजूद सरकार के गठन की भाजपा की अतार्किक जिद संविधान का मजाक बनाना है। उन्होंने कहा, ’’एक तरफ भाजपा खोखली जीत का जश्न मनाएगी, वहीं दूसरी ओर भारत लोकतंत्र की हार का शोक मनाएगा। बाद में रायपुर में जन स्वराज सम्मेलन में शामिल हुए राहुल ने आरोप लगाया कि भाजपा और आरएसएस देश की हर लोकतांत्रिक संस्था पर कब्जा जमाना चाहते हैं। कुछ महीने पहले उच्चतम न्यायालय के चार वरिष्ठ न्यायाधीशों द्वारा किए गए संवाददाता सम्मेलन का हवाला देते हुए राहुल ने कहा, न्यायपालिका भय में है, प्रेस डरा हुआ है और यहां तक भाजपा के सांसद भी डरे हुए हैं क्योंकि वे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के समक्ष एक शब्द नहीं बोल सकते। सुरजेवाला ने ट्वीट किया, (येड्डीयुरप्पा को) मुख्यमंत्री पद की शपथ दिलाना हास्यापस्पद है। बहुमत के आंक़डे को लेकर जालसाजी की जा रही है। संविधान के साथ छल हुआ है, लोकतंत्र के साथ धोखा हुआ है। कर्नाटक के राज्यपाल ने बी एस येड्डीयुरप्पा को गैरकानूनी ढंग से शपथ दिलाई है और राजभवन को भाजपा कार्यालय में बदल दिया। उन्होंने कहा, भारत के लोकतंत्र पर काला धब्बा लगा है जिसे मिटाया जाएगा। पार्टी महासचिव अशोक गहलोत ने आरोप लगाया कि नरेंद्र मोदी सरकार में सभी ब़डी संवैधानिक संस्थाओं को कमजोर किया गया है और भाजपा सत्ता हथियाने के लिए लोकतंत्र की हत्या कर रही है। गौरतलब है कि कल रात उच्चतम न्यायालय ने येड्डीयुरप्पा के शपथ ग्रहण पर रोक लगाने से इंकार कर दिया था। राज्यपाल वजुभाई वाला ने कल येद्दियुरप्पा को सरकार बनाने का न्यौता दिया था। इसके बाद रात में ही कांग्रेस ने शीर्ष अदालत का दरवाजा खटखटाया था। सुरजेवाला ने कल भी राज्यपाल पर निशाना साधा था और आरोप लगाया कि ’’उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और भाजपा अध्यक्ष अमित शाह के दखल से संविधान का ’’ एनकाउंटर ’’ किया है।‘ गौरतलब है कि राज्य में किसी भी पार्टी को स्पष्ट बहुमत नहीं मिला है। ऐसे में प्रदेश की २२४ सदस्यीय विधानसभा में २२२ सीटों पर हुए चुनाव में भाजपा को १०४, कांग्रेस को ७८ और जदएस को ३८ सीटें मिली हैं। फिलहाल, बहुमत के लिए जादुई आंक़डा ११२ है।

LEAVE A REPLY