नई दिल्ली। ट्विटर पर शबाना आजमी और मधु किश्वर के बीच ट्वीटर वार जारी है। इसकी शुरुआत कुछ दिनों पहले हुई थी जब किश्वर ने संजय लीला भंसाली की फिल्म पद्मावत के खिलाफ गुरुग्राम में हुई हिंसा में पांच मुस्लमानों के संलिप्त होने का आरोप लगाया था। हालांकि पुलिस ने मधु किश्वर के इस आरोप का खंडन किया था। इस मुद्दे को लेकर शबाना आजमी ने सोशल मीडिया पर मधु किश्वर पर हमला बोला था।अब इस सिलसिले को जारी रखते हुए उत्तरप्रेदश के कासगंज जिले में भ़डकी सांप्रदायिक हिंसा में मारे गए चंदन गुप्ता को लेकर लेखिका मधु पूर्णिमा किश्वर ने अभिनेत्री शबाना आजमी को निशाने पर लिया है। किश्वर ने ट्वीटर पर कहा है कि आतंकी सोहराबुद्दीन को लेकर आंसू बहाने वाली शबाना आजमी क्या इस नौजवान के लिए भी रोएंगी? किश्वर ने अपने एक अन्य ट्विट में कहा है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को झूठे केस में फंसाने का प्रयास करने वाले सोहराबुद्दीन और इशरत जहां जैसे आतंकवादियों की मौत पर आंसू बहाने वाली शबाना आजमी की बैड बुक्स में आना बहुत ही गर्व की बात है।’’उल्लेखनीय है कि २६ जनवरी को गणतंत्र दिवस के अवसर पर कासगंज में सांप्रदायिक हिंसा भ़डक गई थी। इस हिंसा में २२ वर्षीय चंदन नामक युवक की मौत हो गई थी। यह घटना उस समय घटी थी जब गणतंत्र दिवस के अवसर पर कुछ लोगों एक रैली निकाल रहे थे इस दौरान हिंदू और मुस्लिम समुदाय के दो गुटों के बीच हिंसा भ़डक गई थी। इस दौरान किसी अनजान व्यक्ति की ओर से चलाई गई गोली चंदन नामक युवक की छाती में लग गई। आनन-फानन में उसे अलीग़ढ जिला अस्पताल ले जाया गया लेकिन अस्पताल पहुंचने से पहले ही उसकी मौत हो गई। पुलिस के अनुसार गणतंत्र दिवस के दिन पुलिस से बिना अनुमति प्राप्त किए ही तिरंगा यात्री निकाली जा रही थी। पुलिस अधिकारियों के अनुसार कासगंज में अभी भी हिंसा पूरी तरह से शांत नहीं हुई है। शनिवार को भी उपद्रवियों ने कासंगज की कुछ दुकानों में तो़डफो़ड की और एक बस एवं दो अन्य वाहनों में आग लगा दी। उपद्रवियों ने एक मकान को भी आग के हवाले कर दिया जिससे वह मकान जलकर पूरी तरह से राख हो गया। पुलिस इस मामले में अभी तक ४९ आरोपियों को हिरासत में ले चुकी है और अन्य आरोपियों को गिरफ्तार करने की कोशिश जारी है।

Facebook Comments

LEAVE A REPLY