नई दिल्ली। लोकपाल की मांग को लेकर मनमोहन सरकार के खिलाफ ब़डा आन्दोलन ख़डे करने वाले समाजसेवी अन्ना हजारे ने अब भ्रष्टाचार को लेकर मोदी सरकार के खिलाफ हमला बोलते हुए ’’भ्रष्टाचारमुक्त भारत’’ के उसके नारे को खोखला करार दिया है । हजारे ने मंगलवार को यहां एक पत्रकार वार्ता में कहा कि वह भ्रष्टाचार, किसानों की समस्या और चुनाव सुधार को लेकर आगामी २३ मार्च को ’’शहीद दिवस’’ पर राष्ट्रीय राजधानी से जनान्दोलन की शुरुआत करेंगे । इसके लिए जगह आवंटित के लिए उन्होंने केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह को पत्र लिखा है। आन्दोलन से पहले वह देश भर में जनसभाएं करेंगे और जनता को जगाने का काम करेंगे। अन्ना ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने लोकसभा चुनाव में लोकपाल का वादा किया था, लेकिन सत्ता में आते ही उनकी सरकार ने लोकपाल कानून को कमजोर कर दिया। सरकार एक ओर तो ’’भ्रष्टाचारमुक्त भारत’’ के ब़डे -ब़डे विज्ञापन लगाती है दूसरी ओर भ्रष्टाचार पर लगाम लगाने वाले कानून को कमजोर कर रही है ।

LEAVE A REPLY