अगरतला। त्रिपुरा में इन दिनों चुनावी घमासान तेज हो गया है। इसी बीच एक गांव समर्थकों के बीच इस कदर विभाजित हो गया है कि भाजपा समर्थक मुस्लिमों को यहां की मस्जिद में नमाज पढ़ने से रोका जा रहा है। यह गांव दक्षिण त्रिपुरा के शांतिबाजार निर्वाचन क्षेत्र में स्थित है और इसका नाम मोईडाटीला है। इस गांव में 100 किसान परिवार रहते हैं। यहां के 83 परिवारों में से 25 परिवारों ने कुछ समय पहले भाजपा के समर्थन की घोषणा की थी। परिणामस्वरुप भाजपा के विरोधी मुस्लिम परिवारों ने गांव की मस्जिद में इन लोगों को नमाज पढ़ने से रोक दिया। अब इस कारण से इस गांव में दो मस्जिद हो गई हैं एक पुरानी मस्जिद है जहां बीजेपी के विरोधी नमाज पढ़ते हैं और दूसरी अस्थायी रूप से निर्मित एक धार्मिक स्थल जहां बीजेपी समर्थक मुस्लिम नमाज पढ़ते हैं।
एक अंग्रेजी अखबार में छपी खबर के अनुसार यहां के भाजपा समर्थक मुस्लिम व्यक्तियों के हवाले से आ रही जानकारी के अनुसार वह 16 महीने पहले भाजपा में शामिल हुए थे। उसके कुछ समय बाद ही मस्जिद के लोगों ने उनसे कहा कि अब वह यहां पहले से मौजूद मस्जिद में इबादत नहीं कर सकते। भाजपा समर्थक मुस्लिमों से गांव के अन्य पार्टी के समर्थक मुस्लमानों ने कहा कि अब वह लोग हिंदूवादी पार्टी का विरोध कर रहे हैं इसलिए जो लोग भाजपा का समर्थन कर रहे हैं उन्हें गांव की मस्जिद में आने की जरूरत नहीं है। भाजपा समर्थकों से यहां तक कहा गया कि यदि वह चाहें तो हिंदुओं के साथ जा सकते हैं। इसके बाद गांव के 25 मुस्लिम परिवारों ने टिन की छत और बांस की मदद से एक अस्थायी मस्जिद का निर्माण किया है। इबादत करवाने के लिए भाजपा समर्थकों को आपस में चंदा इकट्ठा करके एक अलग इमाम की भी व्यवस्था करनी पड़ी है।
यह सभी 25 परिवार पहले मोटे तौर पर कांग्रेस का समर्थन करते आ रहे थे। हालांकि कुछ लोग सत्ताधारी सीपीएम से भी जुड़े थे लेकिन इनका कहना है कि कांग्रेस यहां से पूरी तरह से साफ हो गई है और 25 वर्षों के सीपीएम राज में गांव को कुछ भी हासिल नहीं हुआ इसलिए अब उन्होंने भाजपा का समर्थन करने का निर्णय लिया है और इनके लिए भाजपा एक नई आशा है। जिन लोगों को गांव की मस्जिद में प्रवेश करने से रोका गया है उनका कहना है कि गांव में बिजली नहीं है और पीने के शुद्ध पानी की भी व्यवस्था नहीं है। इन्हीं सब बदइंतजामियों के कारण इन्होंने भाजपा का समर्थन करनेे की बात कही है। इस बार के चुनावों में शांतिबाजार निर्वाचन क्षेत्र से गृह और आदिवासी कल्याण मंत्री मनिंद्र रेयांग प्रत्याशी हैं। रेयांग सीपीआई से ताल्लुक रखने वाले नेता हैं। इस निर्वाचन क्षेत्र में मुस्लिम आबादी महज 4 प्रतिशत है और 40 प्रतिशत आदिवासी मतदाता हैं। ज्ञातव्य है कि त्रिपुरा में 18 फरवरी को मतदान होना है और तीन मार्च को मतगणना होगी।

LEAVE A REPLY