नई दिल्ली। पंजाब नेशनल बैंक के साथ धोखाध़डी के मामले में इस समय सुर्खियों में चल रहा अरबपति आभूषण डिजाइनर नीरव मोदी बैंक की ओर से इस मामले में शिकायत मिलने से काफी दिन पहले गत एक जनवरी को ही देश से बाहर चला गया था। यहां अधिकारियों ने यह जानकारी दी। अधिकारियों का कहना है कि पीएनबी ने २८० करो़ड रुपए की धोखाध़डी के बारे में २९ जनवरी को केंद्रीय जांच ब्यूरो सीबीआई को शिकायत की थी। अधिकारियों का कहना है कि नीरव का भाई निशल बेल्जियम के नागरिक हैं। वह भी एक जनवरी को देश छो़ड कर चला गया। उसकी पत्नी और अमेरिकी नागरिक एमी तथा गीतांजलि ज्वेलरी स्टोर शृंखला चलाने वाली फर्म में भागीदारी मेहुल चोकसी छह जनवरी को देश से बाहर चले गए। उन्होंने कहा कि इस मामले में पहली एफआईआर दर्ज करने के बाद एजेंसी ने इन चारों के खिलाफ लुक आउट नोटिस जारी किया था ताकि देश से बाहर जाने आने के रास्तों पर इनकी की जा सके।ऐसा माना जा रहा है कि नीरव मोदी स्विटजरलैंड में हैं। वह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ दावोस (स्विट्जरलैंड) में नामी भारतीय कंपनियों के मुख्य कार्यपालकों (सीईओ) के समूह के साथ फोटो में शामिल है। वर्ल्ड इकोनॉमिक फोरम के सम्मेलन की इस फोटो को २३ जनवरी प्रेस सूचना ब्यूरो ने जारी किया था। इसके छह दिन बाद ही पंजाब नेशनल बैंक ने उनके खिलाफ पहली शिकायत जारी की। अधिकारियों का कहना है कि नीरव मोदी तो भारतीय नागरिक हैं लेकिन उनके भाई निशल तथा पत्नी एमी भारतीय नागरिक नहीं हैं। नीरव मोदी वर्ष २०१३ से ही धन व चर्चित भारतीयों की सूची में लगातार आते रहे हैं। सीबीआई ने नीरव, उनकी पत्नी, भाई व कारोबार भागीदारी चोकसी के खिलाफ ३१ जनवरी को मामला दर्ज किया था। यह मामला पंजाब नेशनल बैंक से कथित रूप से २८० करो़ड रुपए की धोखाध़डी का है। बैंक ने मंगलवार को सीबीआई को भेजी दो और शिकायतों में कहा कि यह घोटाला ११,४०० करो़ड रुपए का है।

Facebook Comments

LEAVE A REPLY