अलीगढ। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने बुधवार को कहा कि अलीगढ- मुस्लिम विश्वविद्यालय (एएमयू) देश के विकास में अपनी खास भूमिका निभाता रहा है। राष्ट्रपति ने कहा कि एएमयू वर्ष २०२० में अपने सौ साल पूरे करने जा रही है। इस विश्वविद्यालय की एक प्रभावशाली परंपरा रही है। उन्होंने कहा, यहां के पूर्ववर्ती छात्रों ने हमारे देश के लिए तरक्की की शानदार मिसालें पेश की हैं जिन पर हमें गर्व है। उनसे प्रेरणा लेकर आप अपनी जिंदगी के मकसद तय कर सकते हैं और अपनी अलग पहचान बना सकते हैं। इस यूनिवर्सिटी की विरासत को आगे ले जाने की जिम्मेदारी आप सब की है और मुझे विश्वास है आप ऐसा करेंगे। राष्ट्रपति कोविंद आज एएमयू के ६५वें दीक्षांत समारोह को संबोधित कर रहे थे। क़डी सुरक्षा व्यवस्था के बीच आयोजित समारोह में उन्होंने कहा, बीसवीं सदी के शुरुआती दौर में हमारी आ़जादी की ल़डाई जोरों पर थी। साथ ही, हमारे देश में समाज और संस्कृति के सभी पहलुओं में आधुनिकता को ब़ढावा देने और निरर्थक परम्पराओं से मुक्त होने का अभियान भी पूरे जोश पर था। उस दौर में, इंसान की बेहतरी और तरक्की के लिए तालीम की बुनियादी अहमियत पर ़जोर देने वाले महापुरुषों ने भारतीय मूल्यों पर आधारित आधुनिक शिक्षा के प्रसार के लिए अनेक शिक्षण संस्थानों की स्थापना की। राष्ट्रपति ने कहा कि एएमयू के लिए आर्थिक सहायता देने वालों में बनारस के महाराजा भी शामिल थे। ऐसे महत्वपूर्ण संस्थानों को किसी समुदाय से जो़डकर देखने की आवश्यकता नहीं है। इस विश्वविद्यालय के विद्यार्थियों ने भारत में ही नहीं बल्कि पूरी दुनिया में अपनी पहचान बनाई है। उन्होंने कहा कि इस विश्वविद्यालय में विज्ञान और प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में, आज की जरूरतों को ध्यान में रखकर नये काम किए जा रहे हैं। यहां एक सेंटर फॉर अडवांस्ड रिसर्च इन इले्ट्रिरफाइड ट्रांसपोर्टेशन की शुरुआत की गई है जिसमें भारत सरकार और इंडस्ट्री के साथ संपर्क बनाकर उपयोगी तकनीक के विकास से जु़डा अध्ययन किया जा रहा है। आधुनिकता के लिए, विज्ञान और प्रौद्योगिकी के साथ-साथ प्रगतिशील सोच भी जरूरी है जिसके मुताबिक समाज का हर तबका बराबरी और भाईचारे के साथ आगे ब़ढता रहे।

LEAVE A REPLY