क ऐसा मंदिर है जहां भगवान हनुमान डॉक्टर के रूप में पूजे जाते हैं। हैरान मत होइए, यह बात एक दम सच है। मान्यता है कि इस मंदिर के हनुमान स्वयं अपने एक भक्त का इलाज करने डॉक्टर बनकर यहां आए थे। इस मंदिर के साथ लाखों लोगों की आस्था जु़डी हुई है। इस मंदिर में हनुमान जिसका इलाज करने यहां आए थे वह एक साधु था। लंबे समय से उसको कैंसर था। हनुमान जी ने उसमे मंदिर में डॉक्टर के वेश में दर्शन दिए थे। वे गर्दन में आला डाले थे, जिसके बाद साधु पूरी तरह स्वस्थ हो गया। श्रद्धालुओं का मानना है कि, डॉ. हनुमान के पास सभी प्रकार के रोगों का कारगर इलाज है।माना जाता है कि रोगों के लिए हनुमान जी की भभूत कारगर है। विशेष रूप में फो़डा, अल्सर और कैंसर जैसी बीमारियां भी मंदिर की पांच परिक्रमा करने पर ठीक हो जाती हैं। यहां हनुमान जी की जो मूर्ति है वो नृत्य की मुद्रा में है। यह देश की अकेली ऐसी मूर्ति है, जिसमें हनुमान जी को नृत्य करते हुए दिखाया गया है। इटावा ि़जले के भिंड से लगी सीमा पर दरौआ सरकार धाम में बना हनुमान मंदिर ’’डॉक्टर हनुमान’’ का घर हैं। यहां डॉक्टर हनुमान के पास अच्छी सेहत की उम्मीद लेकर लाखों श्रद्धालु जुटते है। प्रत्येक मंगलवार को यहां तमाम रोगियों का जमाव़डा लगता है। ३०० साल पहले हनुमानजी की यह मूर्ति नीम के पे़ड से छिपी थी। पे़ड को काटने पर गोपी वेषधारी हनुमान जी की ये प्राचीन मूर्ति प्राप्त हुई थीं. तब से मूर्ति की पूजा-अर्चना शुरू की गई।

Facebook Comments

LEAVE A REPLY