से हम चमत्कार ही कहेंगे। मौत के २ महीने बाद किसी की डेड बॉडी मुस्कुराने लगे तो दुनिया तो चौंक ही प़डेगी। यह मामला सामने आया है थाईलैंड में। यहां एक बौद्ध भिक्षु के शव को उनके भक्तों ने एक रस्म के लिए कब्र से बाहर निकाला तो वे चौंक प़डे। जो कोई सामने आया उसे देख आंखें फटी रह गई। दरअसल, बौद्ध भिक्षु के शरीर पर कोई खास फर्क नहीं प़डा था और उनके चेहरे पर एक मुस्कान कायम थी।एक मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक यह डेडबॉडी बौद्ध भिक्षुओं के गुरु र्ङीरपस झहेी झळरप की है जिनकी मृत्यु ९२ साल की उम्र में हुई थी। मौत के बाद उन्हें उसी मंदिर में दफनाया गया जहां वे सेवा करते थे। ठीक दो महीने बाद एक खास रस्म के लिए उनका शव कब्र से बाहर निकाला गया तो बाकी भिक्षु दंग रह गए। लुआंग के चेहरे पर कुटिल मुस्कान थी। ऐसा लग रहा था कि जैसे वह चैन की नींद में सो रहे हों। इस पर यकीन करना मुश्किल है कि २ महीने बाद भी उनका शरीर वैसा ही है। हालांकि उनकी बॉडी की हालत कुछ बिग़ड गई है लेकिन आज भी डेडबॉडी को देखकर कोई नहीं कह सकता कि उनकी मौत २ महीने पहले हुई होगी। जो कोई उनके शव को देखता है वह कहता है इसे देखकर तो ये लगता है कि इनकी मौत सिर्फ ३६ घंटे पहले हुई हो। उनके चेहरे पर मौजूद मुस्कान को लेकर भक्तों का भी अनोखा लॉजिक है। वे मानते हैं उन्हें मोक्ष मिल गया है। आपकी जानकारी के लिए बता दें कि भिक्षु के शव को निकालकर यह खास रस्म निभाई जाती है, क्योंकि उन्हें साफ कर नए कप़डे पहना दिए जाते है। फिर उनके लिए पूजा की जाती है। ये पूजा तब तक चलेगी जब तक उनकी मौत हुए १०० दिन पूरे नहीं हो जाते। १००वें दिन पूरे होने के बाद उन्हें हमेशा के लिए दफना दिया जाएगा।

Facebook Comments

LEAVE A REPLY