रिजिजू ने एनआरसी का इस्तेमाल भाजपा द्वारा अपने फायदे के लिए किए जाने के दावों को खारिज किया। उन्होंने कहा कि चुनाव जीतने के लिए एनआरसी का सहारा नहीं चाहिए। उन्होंने कांग्रेस पर वोटबैंक की राजनीति करने का आरोप लगाया।

नई दिल्ली। केंद्रीय गृहराज्य मंत्री किरन रिजिजू ने राष्ट्रीय नागरिक रजिस्टर (एनआरसी) पर कहा है कि जो व्यक्ति भारत का ​नागरिक है, उसे भयभीत होने की आवश्यकता नहीं है। अगर इस प्रक्रिया में कहीं कोई खामी रही है तो उसमें जरूर सुधार किया जाएगा। उन्होंने कहा कि उच्चतम न्यायाल की निगरानी में देश के हित के लिए काम जारी रखेंगे। अगर कहीं प्रक्रिया में कोई त्रुटि मिलती है तो उसके लिए संपूर्ण व्यवस्था को गलत नहीं बताया जा सकता। अगर कोई व्यक्ति सामान्य ड्राइविंग लाइसेंस लेता है तो उसके लिए भी दस्तावेज देने होते हैं।

उन्होंने एनआरसी को किसी धर्म विशेष से जोड़कर देखने की अफवाहों पर कहा है कि इस प्रक्रिया में ऐसा कोई दृष्टिकोण नहीं है। अवैध रूप से आए ज्यादातर लोगों का ताल्लुक बांग्लादेश से है। अगर कोई वीजा और संपूर्ण दस्तावेजों के साथ आता है तो उसका स्वागत है, लेकिन जो छुपकर आएगा उसे देश बर्दाश्त नहीं करेगा।

रिजिजू ने कहा है कि जिन हिंदू, सिक्ख, बौद्ध आदि का पाकिस्तान, बांग्लादेश, अफगानिस्तान जैसे देशों में उत्पीड़न हुआ, उन्हें यहां पूरे दस्तावेजों के साथ आने दिया। उन्हें नागरिकता नहीं दी गई है। बिना जरूरी दस्तावेजों के किसी को भी देश में रहने की अनुमति नहीं है। उन्होंने पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी द्वारा दिए गए बयान में गृहयुद्ध और रक्तपात जैसी आशंकाओं पर कहा कि एक मुख्यमंत्री के मुंह से ऐसी बातें अच्छी नहीं लगतीं।

रिजिजू ने एनआरसी का इस्तेमाल भाजपा द्वारा अपने फायदे के लिए किए जाने के दावों को खारिज किया। उन्होंने कहा कि चुनाव जीतने के लिए एनआरसी का सहारा नहीं चाहिए। उन्होंने कांग्रेस पर वोटबैंक की राजनीति करने का आरोप लगाया। रिजिजू ने कहा कि भाजपा अपने नेतृत्व की नीतियों की वजह से पूर्वोत्तर में मजबूत हो रही है।

ये भी पढ़ें:
– फारूख अब्दुल्लाह के घर में कार लेकर जबरन घुसा शख्स, सुरक्षाबलों ने किया ढेर
– मध्य प्रदेश: कांग्रेस में मची खींचतान कहीं डुबो न दे चुनावी नैया!
– लादेन की मां ने पहली बार मीडिया के सामने कहा- ‘बहुत अच्छा था मेरा बच्चा, लोगों ने बिगाड़ दिया’

Facebook Comments

LEAVE A REPLY