अहमदाबाद। अयोध्या मामले की सुनवाई अगले आम चुनाव के बाद कराने के सुन्नी वक्फ बोर्ड के वकील कपिल सिब्बल की दलील पर उठे विवाद के बीच कांग्रेस ने गुरुवार को कहा कि वह चाहती है कि इस मामले में न्यायालय का फैसला जल्द-से-जल्द आए। कांग्रेस मीडिया विभाग के प्रमुख रणदीप सिंह सूरजेवाला ने यहां संवाददाता सम्मेलन में कहा कि अयोध्या मामले पर उच्चतम न्यायालय में सुनवाई चल रही है और उनकी पार्टी इस पर जल्द-से-जल्द फैसले के पक्ष में है। आपसी बातचीत से इसके समाधान के प्रयास विफल हो गए हैं और अब फैसला न्यायालय को ही करना है। उन्होंने कहा कि मोदी सरकार ने पिछले ४२ महीने के अपने शासनकाल में अयोध्या मामले की जल्द सुनवाई को लेकर कोई कदम नहीं उठाया। सरकार की जवाबदेही बनती है कि वह इसकी जल्द सुनवाई सुनिश्चित करे। उसे काफी पहले इस मामले में त्वरित सुनवाई के लिए पहल करनी चाहिए थी। सिब्बल के न्यायालय से इस मामले की सुनवाई में देर करने के अनुरोध के बारे में पूछे जाने पर सूरजेवाला ने कहा कि न्यायालय व्यक्ति विशेष के कहने से प्रभावित नहीं होता। वकील अपने मुवक्किल की तरफ से दलीलें देते रहते हैं। उन्होंने कहा कि भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) से जु़डे वकील विभिन्न मामलों में अदालतों में क्या-क्या बातें कहते रहे हैं इसकी लंबी फेहरिस्त बनाई जा सकती है। कांग्रेस नेता ने आरोप लगाया कि भाजपा राम के नाम पर राजनीति कर रही है जो पूरी तरह गलत है। उन्होंने कहा कि यह पार्टी राम के नाम पर मंथरा की भूमिका निभा रही है। कांग्रेस के लिए राम राज्य का मतलब सभी धर्मों के प्रति सम्मान, सदाचार और संस्कृति से है जबकि भाजपा इसके नाम पर धुर्वीकरण की राजनीति कर रही है तथा लोगों को बांट रही है।

LEAVE A REPLY